Yogasan Ke Fayade In Hindi – योगासन करने का सही तरीका हिंदी में

0
10
Yogasan Ke Fayade In Hindi - योगासन करने का सही तरीका हिंदी में
Yogasan Ke Fayade In Hindi - योगासन करने का सही तरीका हिंदी में

Yogasan हमें संयुक्त रूप से बैठकर प्राणायाम और ध्यान करना सिखना है। नियमित अभ्यास के कई फायदे हैं। योगासन में स्वास्थ्य मानसिक शक्ति शारीरिक शक्ति शरीर के टूटने से शरीर की सुरक्षा और शरीर की शुद्धि जैसे लाभ देता है। आये जानते हैं 10 योगासनों के बारे में 

types of asanas :

  • तड़ासन
  • वृक्षासन
  • अधो मुखो संवासन
  • त्रिकोणासन
  • कुरसियाना
  • नौकासना
  • भुजंगासन
  • पश्चिमोत्तानासन

योगासन के अंतिम चरण को ही समाधि राज योग कहा जाता है। क्योंकि यह निश्चित रूप से  कायोगासन की विशेषता है। इसमें सेल्फ-इंस्पेक्शन करने के लिए रोजमर्रा की जिंदगी से कुछ समय निकलना शामिल है। यह इस तरह का अभ्यास है जो हर कोई कर सकता है। महर्षि पतंजलि ने इसका नाम अष्टांग योगासन रखा है

इसे भी पढ़े  : गूलर खाने के फायदे और उपयोग

योगासन के 10 फायदे :

  1. भुजंग आसन
  2. बाल आसन
  3. मार्गर आसन
  4. नटराज आसन
  5. हलासन
  6. नमस्कार आसन
  7. वज्रासन
  8. वृक्षासन
  9. कमर दर्द
  10. चिंता से छुटकारा मिले

1. भुजंग आसन

सबसे पहले अपने पेट को बल सो जाएं। अब अपनी हथेलियों को अपने कंधों के साथ लाएं। इस बीच अपने पैरों के बीच की दूरी को कम कर सकते है। 

2. बाल आसन

बाल का अर्थ है शिशु या बच्चा बालसाना में हम एक इलेक्ट्रिक आसन के साथ एक बच्चे की तरह अपनी बालो और शरीर को आगे बढ़ाते हैं। यह आसन बहुत ही सरल है। 

लेकिन यह बहुत फायदेमंद भी है। काठ की मांसपेशियों को आराम देता है और यह आसन कब्ज से भी छुटकारा दिलाता है। यह आसन जो मन को शांत करता है। 

3. मार्गर आसन

अपने घुटनों और हाथों पर जाएं और शरीर की मेज को कई तरीकों से बनाएं। अपनी पीठ और हाथ और पैर के साथ मेज के चारों ओर तालिका के शीर्ष बनाएंश्वास लें अपनी ठोड़ी को सिर के पीछे ले जाएं अपनी नाभि को जमीन पर दबाएं और अपनी निचली पीठ को छत की ओर ले जाएं है। 

दोनों तरफ। इस स्थिति को पकड़ो और लंबी गहरी साँस लें और छोड़ें। अब हम इसके विपरीत करेंगे। साँस छोड़ते समय ठोड़ी को थोड़ी देर छाती की स्थिति में रखें और फिर पिछली स्थिति में लौट आएं। इस प्रक्रिया को पांच से 6 बार दोहराएं और आराम करें।

4. नटराज आसन

इस आसन का नाम भगवान शिव है। प्रारंभ में यह करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है लेकिन नियमित अभ्यास के साथ यह aasan से किया जा सकता है और सबसे पहले आराम की मुद्रा में खड़े हों। बाएं पैर पर शरीर का वजन स्थापित करें और दाहिने घुटने को धीरे मोड़ें और पैर को जमीन से ऊपर उठाएं।

साँस छोड़ते समय बाएं पैर पर ज़मीन को दबाएं और आगे झुकें। दाएं पैर को शरीर से दूर ले जाएं। सिर और गर्दन को रीढ़ से सटाकर रखें। इस आसन को 15 से 30 सेकंड तक करें। इससे आपका शरीर का संतुलन काफी बेहतर होगा और आपका शरीर अधिक से अधिक लचीला हो जाएगा। यह आसन हाथों और पैरों में रक्त परिसंचरण में सुधार करेगा 

5. हलासन

हलास में, शरीर को हल की मुद्रा में रखा जाता है। इस आसन के लिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि शरीर लचीला बना रहे। बिस्तर को अपनी पीठ पर रखें और अपने दोनों हाथों को बहुत ही आराम की मुद्रा में सीधे जमीन पर रखें। गहरी सांस लेते हुए अपने पैरों को पेट की मांसपेशियों की मदद से फर्श से उठाएं और दोनों पैरों को 90 डिग्री के कोण पर रखें। सामान्य रूप से साँस लेते है। 

अपने कूल्हों को उठाएं और हाथों की मदद से फर्श पर लौटें। अब अपने पैरों को सिर के ऊपर ले जाते हुए 180 डिग्री के कोण पर झुकें जब तक कि आपके पैर फर्श को स्पर्श न करें। आपकी पीठ फर्श पर समकोण पर होनी चाहिए। शुरू में आपको types of asanas में रहने में परेशानी होती है। 

लेकिन कुछ प्रयासों के बाद आप इसे aasan से कर सकते हैं इस प्रक्रिया को धीरे और आराम से करें। लेकिन यह भी ध्यान रखें कि आपको अपनी गर्दन पर दबाव नहीं डालना चाहिए या जमीन की ओर धक्का नहीं देना चाहिए अब वापस सामान्य हो जाएं और अपने शरीर को थोड़ा आराम दें।

इसे भी पढ़े  : इसे भी पढ़े पिस्ता खाने के फायदे और उपयोग

6. नमस्कार आसन

नमस्कार आसन किसी भी आसन की शुरुआत में किया जाता है।

7. वज्रासन

इस आसन का अभ्यास करने से शरीर मजबूत होता है। यह ध्यान मुद्रा में है। यह एकमात्र आसन है जिसे खाने के बाद भी किया जा सकता है। Yoga asanas names को आप दिन या शाम दोनों समय कर सकते हैं। वज्रासन करने के लिए टांके को एक साफ समतल जगह पर रखें फिर उस पर अपने घुटनों के बल बैठ जाएं और पंजों को पीछे फैला लें और एक पैर के अंगूठे को दूसरे पैर के अंगूठे पर रखें

इस आसन में, आपके घुटने एक साथ पास होने चाहिए लेकिन एड़ियों को अलग होना चाहिए। आपका कूल्हा दोनों पंजे के बीच होना चाहिए और अब अपनी हथेलियों को घुटनों पर रखें। जितना हो सके वज्रासन का अध्ययन करें। फिर सामान्य अवस्था में लौट आएं। वज्रासन करने के लिए पहले 5 मिनट भोजन के बाद लें फिर करें।

8. वृक्षासन

वृक्षासन का अर्थ है वृक्ष के समान आसन। यह आसन खड़े होने के दौरान किया जाता है। वृक्षासन आसन की तरह यह आसन भी वृद्धि के लिए सीधे खड़े होना चाहिए शारीरिक संतुलन के लिए बहुत फायदेमंद है। शरीर के वजन को बाएं पैर पर रखें और दाएं पैर को बड़ा ये। 

घुटने के ऊपर दाएं पैर का एकमात्र भाग लाएं और बाएं पैर से लगाएं। दोनों हथेलियों को प्रार्थना मुद्रा में छाती के पास लाएं। अपने दाहिने पैर के एकमात्र बाएं पैर को दबाएं। बाएं पैर के जूते को जमीन पर ले जाएं, अपने हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं। सिर को सीधा रखें और आगे की ओर देखें। Yoga asanas names को 15 से 30 सेकंड तक करें। दोनों तरफ यह आसन है।

9. कमर दर्द

आजकल हमारा ज्यादातर काम बैठ कर होता है। इससे किसी को दर्द होता है। यदि आप Yogasan प्रशिक्षु की देखरेख में योग करते हैं तो रीढ़ में खिंचाव होता है जो किसी भी तरह के दर्द से राहत दिला सकता है।

10. चिंता से छुटकारा मिले

कहा जाता है कि वह चीता की मां हैं। जो कोई भी चिंता से अभिभूत है, वह तनाव में है। चिंता से हृदय रोग भी हो सकता है। अगर आप बहुत चिंतित हैं तो आज ही Yoga asanas with names । Yoga in hindi माध्यम से आप न केवल मानसिक रूप से सभी प्रकार के विकारों और नकारात्मक सोच को दूर करने में सक्षम होंगे  बल्कि आपके पास फिर से जीवन जीने और सभी दुविधाओं का सामना करने की क्षमता भी होगी। विचलित मन शांत हो जाता है और व्यक्ति परम आनंद प्राप्त करता है।

योगासन के नियम :

  • नियम के अनुसार योग सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद किया जाना चाहिए। सुबह yogasan करने के कई फायदे हैं।
  • Yogasan से पहले, हल्के ढंग से गर्म करना आवश्यक है ताकि शरीर खुल जाए।
  • योग की शुरुआत हमेशा ताड़ासन से करनी चाहिए।
  • yogasan सुबह खाली पेट करना चाहिए।
  • जो लोग पहली बार योग कर रहे हैं उन्हें शुरू में हल्के Yoga asanas images with names चाहिए और योग प्रशिक्षक की देखरेख में करना चाहिए। फिर जैसे-जैसे उन्हें इसकी आदत होती जाती है, वैसे-वैसे उनका स्तर बढ़ता जाता है।
  • यदि आप शाम को योग कर रहे हैं, तो अपने भोजन के तीन से चार घंटे बाद ही करें। इसके अलावा yoga types के आधे घंटे बाद कुछ खाएं।
  • yogasan करने के तुरंत बाद स्नान न करें, बल्कि थोड़ी देर रुकें।
  • योग हमेशा आरामदायक कपड़े पहनकर ही करना चाहिए।
  • जहां आप योग कर रहे हैं, वह जगह साफ और शांत होनी चाहिए।
  • योग करते समय अपने मन में नकारात्मक विचारों से छुटकारा पाने की कोशिश करें।
  • योग का सबसे महत्वपूर्ण नियम यह है कि इसे धैर्यपूर्वक करें और किसी Yoga asanas names पर अधिक जोर न दें। जितना हो सके उतना करें।
  • सभी योगासन सांस लेने और छोड़ने पर आधारित होते हैं जिसके लिए संपूर्ण ज्ञान की आवश्यकता होती है। यदि संभव हो, तो पहले इसके बारे में जानें फिर स्वयं करें।
  • यदि आप बीमार या गर्भवती हैं, तो अपने डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही ऐसा करें। यह भी एक योग्य योग प्रशिक्षक की देखरेख में करें।
  • Yoga asanas names with pictures and benefits । यह शरीर और मन को पूरी तरह से शांत करता है। बस सांस लेने से योग का पूरा लाभ मिलता है।
  • योग के दौरान ठंडा पानी न पिएं, क्योंकि योग करते समय शरीर गर्म होता है। इसलिए ठंडे पानी के बजाय, केवल नरम या गुनगुना पानी पीएं है।

इसे भी पढ़े : अनार खाने के फायदे और उपयोग

योगासन करने का सही समय :

  • yogasan विज्ञान में दिन या चार भागों में विभाजित किया गया है: ब्रह्म मुहूर्त सूर्योदय दोपहर और सूर्यास्त।
  • इनमें से ब्रह्म मुहूर्त और सूर्योदय को yoga types  लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।
  • ऐसा माना जाता है कि अगर आप ब्रह्म मुहूर्त में खड़े होकर Yoga in hindi हैं तो आपको सबसे ज्यादा फायदा होगा।
  • उस समय वातावरण शुद्ध होता है और ताजी हवा गतिशील होती है। 
  • ब्रह्म मुहूर्त का समय सुबह चार बजे माना जाता है। इस समय हर किसी के लिए उठना संभव नहीं है, इसलिए
  • बेहतर होगा कि आप सूर्योदय के समय भी योग करें। इससे पूरे दिन शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है।
  • ध्यान रखें कि योगासन हमेशा खाली पेट ही करना चाहिए।
  • आप सूर्यास्त के बाद भी योग कर सकते हैं लेकिन आपने तीन या चार घंटे पहले कुछ भी नहीं खाया है।

yogasan Video In Hindi :

इसे भी पढ़े : सरसो खाने के फायदे और उपयोग

Questions :

1. योगासन क्या है?

गोमुखासन / गोमुखासन।
गोरक्षा / गोरक्षासन।
अर्धमत्स्येन्द्रासन / अर्ध मत्स्येन्द्रासन।
योग मुद्रासन / Yoga Mudrasan
दंड या शंखनाद
Sarvangasana
प्राणायाम / प्राणायाम।
कपालभाती प्राणायाम / Kapalbhati Pranayama

2. योग क्यों आवश्यक है?

Yogasan करने से व्यक्ति को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वास्थ्य लाभ मिलता है। योग न केवल मांसपेशियों को मजबूत करता है, बल्कि शरीर में जीवन शक्ति भी बढ़ाता है और आंतरिक अंगों में ताकत लाता है। इसके अलावा, पल्स सिस्टम को संतुलित करता है। योग मानसिक तनाव से राहत देता है और मानसिक एकाग्रता प्रदान करता है।

3. योग और आसन में क्या अंतर है?

yogasan शरीर की स्थिरता को बनाए रखते हैं जबकि व्यायाम से शरीर की गतिशीलता बढ़ती है। व्यायाम में, आप अपनी श्वास पर ध्यान नहीं देते हैं और श्वास बहुत तेज हो जाता है। योग में, सांस पर संतुलन सिखाया जाता है और Yoga asanas names के आधार पर किया जाता है। योगासन का आंतरिक अंगों पर अधिक प्रभाव पड़ता है

4. योग का मानव शरीर पर क्या प्रभाव है?

योग हमारे दिमाग को तनावमुक्त और स्वस्थ रखने में मदद करता है। योग उच्च रक्तचाप को सामान्य रखने में मदद करता है, तनाव कम करता है और मोटापे को नियंत्रित करता है। इसकी मदद से व्यक्ति का रक्त संचार aasan से हो जाता है, जो न केवल शरीर बल्कि दिमाग को भी प्रभावित करता है।

इसे भी पढ़े  : खरबूजा खाने के फायदे और उपयोग

5. योग हमारे जीवन को कैसे बदल सकता है?

यदि शरीर बीमार है तो मन शांत नहीं हो सकता है और यदि मन सही जगह पर नहीं है, तो शरीर बीमार रहता है। योगासन घटकों और मांसपेशियों को मजबूत करता है। इसके साथ ही प्राणायाम और ध्यान तकनीक तनाव से राहत देकर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करती है। सरोज कुछ समय के लिए Yoga asanas with names तनाव से छुटकारा पाने में मदद करता है।