सूर्य नमस्कार के 15 फायदे हिंदी में – Suryanamaskar Ke Fayade In Hindi

0
9
Suryanamaskar Ke Fayade In Hindi - सूर्य नमस्कार के फायदे हिंदी में
Suryanamaskar Ke Fayade In Hindi - सूर्य नमस्कार के फायदे हिंदी में

नमस्कार दोस्तों आजे में आपको अपने शरीर को स्वस्थ कैसे रख सकते है। suryanamaskar के बारे में बात करंगे। सूर्य नमस्कार के फायदे और कुछ प्रश्नो तो सब कुछ इस लेख में आपको विस्तार से बात करेंगे। तो इस लेख को पूरा पढ़े। 

 इसके विभिन्न “आसनों” का शरीर के विभिन्न हिस्सों पर व्यापक और लचीला प्रभाव पड़ता है। इन आसनों में सबसे प्रभावी suryanamaskar मुद्रा है। कारण यह है कि सूर्य नमस्कार योग कई आसनों के संयोजन से बना है। इस कारण से यह पूरे शरीर को प्रभावित करता है।  और साथ ही सूर्य नमस्कार के लाभों को बताता है

और सूर्य नमस्कार कैसे किया जाता है। यह कई गंभीर “बीमारियों” को दूर रखने में मदद करता है। सूर्य नमस्कार के लाभ प्राप्त करने के लिए इस आसन को प्रतिदिन और “संतुलित” आहार के साथ करना आवश्यक है।

सूर्य नमस्कार करने का सही तरीका क्या है :

इसीलिए प्राचीन काल में शिव की पूजा होती थी। Suryanamaskar का अर्थ है “सूर्य को नमस्कार” करना, अर्थात सूर्य नमस्कार। यदि आप योग कर रहे हैं, तो इसके लिए सूर्य नमस्कार का अभ्यास करना सबसे अच्छा है। इससे आपको एक साथ 12 योगासनों का लाभ मिलता है। और इसीलिए इसे सर्वश्रेष्ठ योगासन भी कहा जाता है।

Suryanamaskar
Suryanamaskar Photo By dreamstime

“योग व्यायाम” और शारीरिक आंदोलन न केवल शरीर को स्वस्थ रखने के लिए महत्वपूर्ण हैं बल्कि मन को फिट रखने के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। प्रतिदिन सूर्य नमस्कार के 12 suryanamaskar steps का अभ्यास करने से मन सक्रिय और केंद्रित होता है। आमतौर पर सुबह खाली पेट इसका अभ्यास किया जाता है। यह सुबह खुले क्षेत्र में करें, जहां आपको ताजी हवा मिलती है

सूर्य नमस्कार के 15 फायदे :

  1. वजन घटाने के लिए
  2. श्वसन दबाव में सुधार
  3. सूर्य नमस्कार करने से पेट को कम होता है
  4. मांसपेशियों की ताकत बढ़ाएंसूर्यन
  5. बेचैनी को दूर करें और मन को शांत रखें ने से
  6. शरीर को आराम देता है
  7. सर्वप्रथम शरीर को तैय्यार करे में
  8. पूर्व या पश्चिम? किस दिशा में
  9. सूर्य नमस्कार जागरूकता के
  10. सामान्य तरीके से साँस ले
  11. मंत्रोचारण के
  12. सूर्यनमस्कार को व्यायाम की भांति भी किया जा सकता है
  13. सूर्यनमस्कार करने के
  14. थोड़ा प्रयत्न करें और फिर छोड़ दे यही रहस्य है |
  15. फुफ्फुसीय कार्य में सुधार

Surya Namaskar Ke Fayde :

1. वजन घटाने के लिए :- “वजन कम करना” भी suryanamaskar के लाभों में से एक है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ योग द्वारा किए गए शोध में यह भी उल्लेख किया गया है कि सूर्य नमस्कार से वजन घटाने पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। ऐसी स्थिति में यह कहना गलत नहीं होगा कि सूर्य नमस्कार का अभ्यास उन लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है जो अपना वजन कम करना चाहते हैं।

2.श्वसन दबाव में सुधार :- श्वसन दबाव श्वसन दबाव सीधे फेफड़े के कार्य और फुफ्फुसीय कार्य से संबंधित है। हमने पहले लेख में उल्लेख किया है कि योग की इस प्रक्रिया में 12 suryanamaskar steps के तहत 12 विभिन्न योगासनों का अभ्यास किया जाता है। अंदर और बाहर सांस लेने की प्रक्रिया महत्वपूर्ण है। यह श्वसन प्रणाली को मजबूत करता है और फेफड़ों के कार्य में सुधार कर सकता है

3. सूर्य नमस्कार करने से पेट को कम होता है :- आसन पेट की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है। यदि वे नियमित रूप से किए जाते हैं तो चर्बी कम हो जाती है।

4. मांसपेशियों की ताकत बढ़ाएं :- सूर्य नमस्कार योग के लाभ मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए हो सकते हैं। दरअसल, इस योग में अपनाए गए surya namaskar step का शरीर के विभिन्न अंगों से जुड़ी मांसपेशियों पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है। स कारण से लगातार व्यायाम मांसपेशियों की गतिविधि को बढ़ाकर उनके प्रदर्शन में सुधार कर सकता है। यह उन्हें धीरे-धीरे मजबूत बना सकता है। ऐसी स्थिति में यह कहा जा सकता है कि सूर्य नमस्कार के नियमित अभ्यास से मांसपेशियां मजबूत होती हैं।

5. बेचैनी को दूर करें और मन को शांत रखें ने से :- सूर्य नमस्कार कदम असुविधा को दूर करने और मन को शांत रखने में मदद कर सकते हैं। शोध पत्र के अनुसार, यह चिंता को शांत करने में मददगार हो सकता है। इस आसन को करने से मन में सकारात्मक विचार आते हैं और चिंता के साथ-साथ अवसाद जैसी समस्याओं से भी बचा जाता है। इस कारण से यह कहा जा सकता है कि surya namaskar yoga का नियमित अभ्यास निराशा और चिंता जैसी समस्याओं को समाप्त करके मन को शांत करता है।

6. शरीर को आराम देता है :- पूरे शरीर की कसरत सूर्य नमस्कार की मुद्रा के साथ की जाती है। इससे शरीर लचीला बनता है।

7. सर्वप्रथम शरीर को तैय्यार करे में :- सूर्य नमस्कार शुरू करने से पहले, कुछ सूक्ष्म व्यायाम या कुछ आसन करने से शरीर में खिंचाव होता है, जिससे मांसपेशियाँ सूर्य नमस्कार के लिए उपयुक्त होती हैं। यह शरीर के दर्द को दूर करता है और आपके शरीर को सूर्य को नमस्कार करने के लिए तैयार करता है।

8. पूर्व या पश्चिम? किस दिशा में :- यदि आप सुबह Surya Namaskar करते हैं तो इस आसन को पूर्व दिशा में करें और यदि आप शाम को सूर्य नमस्कार करते हैं, तो इस आसन को पश्चिम दिशा में करें।

9.सूर्य नमस्कार जागरूकता के :- जागरूकता सूर्य नमस्कार प्रक्रिया का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। यदि आप इसे मानते हैं या नहीं Surya Namaskar  को कृतज्ञता ता धीमी गति और सांस लेने की जागरूकता के साथ किया जा सकता है। तो आप ऊर्जा से भरपूर कर सकते हैं। उदाहरण के लिए अष्टांग नमस्कार के दौरान नाभि चक्र पर स्थित सौर जाल शरीर में ऊर्जा को सक्रिय करता है। 

और आपको ऊर्जा से भरा बनाता है। यदि सूर्य नमस्कार को जागरूकता के साथ किया जाता है तो आपको लगता है कि ऊर्जा नाभि चक्र से पूरे शरीर में संचारित हो रही है। मेरे लिए सूर्य नमस्कार के बाद एक लाश के पद में गिरना अतिरिक्त ऊर्जा के कारण असंभव लगता है।

10.सामान्य तरीके से साँस ले :- आमतौर पर धूप में सांस लेते हुए हल्के से सांस न लें। जोर से सांस न लें। आसान धीमे आराम और जागृति के साथ अंदर और बाहर सांस लें। शरीर के हर आंदोलन के साथ श्वास सामंजस्य बनाए रखें।

11. मंत्रोचारण के :- मंत्रों की तरंगों का हमारे मन और शरीर पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। सूर्यनमस्कार योग में 12 आसन होते हैं और प्रत्येक आसन में सूर्य पूजा से जुड़ा मंत्र होता है। प्रत्येक आसन शरीर के किसी एक चक्र से जुड़ा होता है, जबकि कोई भी आसन उस चक्र की ओर आपका ध्यान खींचता है।

पहले आसन में नमस्कारासन की तरह हम अपना ध्यान हृदय के पास अनाहत चक्र पर केंद्रित करते हैं। यदि आप सूर्य नमस्कार जप चक्रों के बारे में जागरूकता और कृतज्ञता महसूस करते हैं तो यह हमारे ऊपर आध्यात्मिक प्रभाव डाल सकता है। यह पूरी प्रक्रिया को और अधिक आध्यात्मिक बना देगा।

12. सूर्यनमस्कार को व्यायाम की भांति भी किया जा सकता है :- जिन लोगों के पास समय कम है वे सूर्य को व्यायाम के रूप में नमस्कार कर सकते हैं। यदि आप 10-15 मिनट के लिए भी सूर्य को नमस्कार करेंगे तो आपको बहुत अधिक व्यायाम मिलेगा। हर दिन 12 suryanamaskar करना भी पर्याप्त है। पद्मासन या थोड़ा जटिल योग करने से पहले आप सूर्य नमस्कार कर सकते हैं।

यदि आप व्यायाम के रूप में धूप सेंक रहे हैं तो इस प्रक्रिया को थोड़ा तेज करें। यदि आप योगासन के रूप में सूर्य को नमस्कार कर रहे हैं तो इसे मध्यम गति से करें। थोड़ी देर के बाद आपका शरीर हल्का और अधिक लचीला महसूस करेगा, धीरे-धीरे यह प्रक्रिया गहरी होती जाएगी। यदि आपको अपनी पीठ में थोड़ी समस्या है तो तेज गति से सूर्य नमस्कार करें होते है।  

13. सूर्यनमस्कार करने के :- सूर्य नमस्कार के बाद बिस्तर पर जाएं और पूरी तरह से आराम करें। सर्वोत्तम परिणामों के लिए, योग निद्रा में सो जाएँ और आसनों के प्रभाव को पूरे शरीर में सक्रिय होने दें। यदि आपके पास अधिक समय नहीं है। तो मन और शरीर को पूर्ण विश्राम देने के लिए कुछ देर शवासन में आराम करें।

14. थोड़ा प्रयत्न करें और फिर छोड़ दे यही रहस्य है :- यह सूर्य नमस्कार के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण नुस्खा है। हर योगासन की तरह, सूर्य नमस्कार शुरू करने से पहले, आपको थोड़ा प्रयास करना चाहिए। यह प्रयास आवश्यक है। क्योंकि यह आपके शरीर के मूड को सही दिशा में सेट करता है और फिर केवल सतोगुण रहता है। रजोगुण शरीर में नहीं रहता है और सतोगुण हमें ध्यान की ओर ले जाता है।

सूर्य नमस्कार की पूरी प्रक्रिया आपके अभ्यास को पूरा करती है इसमें मुद्रा प्राणायाम मंत्र चक्र ध्यान सब कुछ शामिल है। क्या आपने कभी सोचा है कि एक सूर्य नमस्कार वजन घटाने के व्यायाम से अधिक हो सकता है

15. फुफ्फुसीय कार्य में सुधार :- जैसा कि लेख की शुरुआत में कहा गया है suryanamaskar एक योगासन है जिसमें 12 योगासनों को क्रम से किया जाता है। इस आसन का शरीर के हर अंग पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इस योग प्रक्रिया के दौरान surya namaskar step में सांस अंदर और बाहर आती है। जो विशेष रूप से फेफड़ों की गतिविधि को बढ़ा सकती है। ऐसे मामलों में, यह कहा जा सकता है कि सूर्य नमस्कार के लाभों में फुफ्फुसीय कार्य में सुधार शामिल है।

सूर्य नमस्कार करने के टिप्स :

Suryanamaskar
Photo By dreamstime

यदि कोई व्यक्ति पहली बार सूर्य नमस्कार का अभ्यास कर रहा है तो कुछ बातों को ध्यान में रखना है जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं। हमेशा सूर्योदय के समय सूर्य का अभिवादन करें surya pranam की ओर मुख पूर्वक करें।

  • इस योगासन के प्रत्येक चरण को बारीकी से समझें और इसे धीरे-धीरे और आराम से करें।
  • सूर्य को नमस्कार करने से पहले पेट खाली हो तो बेहतर है।
  • साँस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया पर विशेष ध्यान दें।
  • पीछे की ओर झुकते समय, पैरों को फैलाते हुए और आगे झुकते हुए सावधान रहें कि शरीर को झटका न दें।
  • जितना हो सके सूर्य नमस्कार करें। बहुत ज्यादा पेशी लगाने की जरूरत नहीं।
  • ट्रेनर के साथ शुरुआती अभ्यास करें तो बेहतर होगा।
  • शुरू में इस योग को करते समय आपको शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द महसूस होता है। फिर इसे करना बंद कर दें।

सूर्य नमस्कार के लिए कुछ सावधानियां : 

suryanamaskar
Photo By dreamstime

suryanamaskar का अभ्यास करने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए। यह सूर्य नमस्कार के नुकसान से बचने के लिए आसान बना सकता है। ऐसी स्थिति में निम्नलिखित बिंदुओं पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।

  • इस मुद्रा की कोशिश मत करो।
  • हर्निया और उच्च रक्तचाप के रोगियों को इस योगासन को नहीं करना चाहिए।
  • कमर दर्द के मामले में सूर्य नमस्कार से बचें।
  • महिलाओं को सलाह दी जाती है कि वे मासिक धर्म के दौरान भी सूर्य को नमस्कार न करें।

स्वस्थ जीवन जीने के लिए योग सबसे अच्छा तरीका है। योग न केवल शरीर और मन को स्वस्थ रखने का काम करता है, बल्कि कई बीमारियों को ठीक करने में भी मदद कर सकता है। ऐसी स्थिति में suryanamaskar के साथ दिन की शुरुआत में हर कार्य को अच्छी तरह से ध्यान में रखकर किया जा सकता है। यदि आप भी सूर्य नमस्कार के लाभों से प्रभावित हैं। और इसे नियमित रूप से अभ्यास करने की योजना बनाते हैं। तो इस लेख को ध्यान में है।

Questions :

1. सूर्य नमस्कार कब करना चाहिए?

सूर्य नमस्कार को सुबह उगते सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए। यह शरीर को ऊर्जा और विटामिन डी प्रदान करता है। यह मानसिक तनाव से भी छुटकारा दिलाता है। वजन और मोटापा कम करने में भी how to do suryanamaskar फायदे मिलते है।

2. सूर्य नमस्कार के बाद कौन सा आसन करना चाहिए?
ताड़ासन सूर्य नमस्कार का अंतिम आसन है। मुद्रा में मुद्रा की तरह यह मुद्रा भी मन पर केंद्रित है।

3. सूर्य नमस्कार के क्या लाभ हैं?
एक नजर डालिए सूर्य नमस्कार के 8 लाभ होते है। 

  1. अपनी सेहत को चमकाओ
  2. पाचन तंत्र अच्छा 
  3. सूर्य नमस्कार पेट कम करता है
  4. Detox में मदद करें 
  5. हर चिंता दूर हो जाएगी 
  6. शरीर में लचीलापन है 
  7. मासिक धर्म नियमित होता है 
  8. रीढ़ को ताकत मिलती है। 

4. सूर्य नमस्कार को सही व्यायाम क्यों कहा जाता है?
suryanamaskar शारीरिक प्रणाली के लिए एक आदर्श व्यायाम है। व्यायाम का एक व्यापक रूप जिसे किसी उपकरण की आवश्यकता नहीं है। सूर्य नमस्कार का उद्देश्य मुख्य रूप से आपके भीतर एक आयाम बनाना है जहां आपके शारीरिक चक्र surya pranam के चक्रों के अनुरूप होते हैं।

5. सूर्य नमस्कार आपको कब तक करना चाहिए?
योग प्रशिक्षक के अनुसार योग करना एक कला है और सुबह धूप सेंकने का सबसे अच्छा समय है। यह समय इस आसन के लिए उपयुक्त माना जाता है। हालाँकि सुबह इस आसन को करना आवश्यक नहीं है। आप इस शाम को भी कर सकते हैं।

6. पानी पीने के बाद योग कितने समय तक करना चाहिए?
योग के बाद क्या खाएं  योग के कम से कम 30 मिनट बाद पानी पिएं इससे पहले नहीं। यह आपको योग करते समय आपके शरीर द्वारा खर्च किए गए इलेक्ट्रोलाइट्स को पुन प्राप्त करने की अनुमति देता है।

Conclusion

दोस्तों आशा करता हु आपको मेरा यह लेख Suryanamaskar Ke Fayade In Hindi  बहुत अच्छी तरह से समज और पसंद भी आया होगा। इस लेख के जरिये  हमने सूर्य नमस्कार के फायदे  से सबंधीत  सम्पूर्ण जानकारी दे दी है। अगर आपको इस तरह के  जानना चाहते है तो आप हमें कमेंट करके जरूर बता सकते है। और हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे। जय हिन्द ।