मूली क्या है | मूली के फायदे उपयोग और नुकशान | Muli Khane Ke Fayde

muli in hindi : को हर जगह  पर सलाद के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। और खासतौर पर मूली को सर्दियों के में सेवन सभी लोगो के घरो किया जाता है। बहुत सारे ऐसे भी लोग होते है जो अक्शर मूली का सेवन करते है। परन्तु उन सभी को मूली के फायदे के बारे में पता नहीं होता है। क्या आपको मूली के फायदे के बारे में पता है।

हमारी सेहत से जुडी बहुत सारी समस्यायो से छुटकारा पाने में आपको मूली बहुत ही फायदे मंद है। muli vegetable भी खाने में इस्तेमाल होती है। आज हम आपको मूली को खाने के फायदे के बारे में आपको बताने बाले है। 

मूली क्या है | what is radish

Muli Khane Ke Fayde

मूली एक भूमिगत सब्जी है। इसका स्वाद थोड़ा तीखा हो सकता है, हालाँकि यह जड़ के प्रकार पर भी निर्भर करता है। इसका वैज्ञानिक नाम रैफनस सैटिवस है। यह ठंड के मौसम में बाजार में उपलब्ध होता है, लेकिन यह इसके प्रकार पर भी निर्भर करता है। मूली में कई पोषक तत्व होते हैं।

मूली का उपयोग भारत में सब्जी के साथ-साथ सलाद के रूप में भी किया जाता है। मूली के नए पत्ते सरसों के पत्तों की तरह दिखते हैं। इसके फूल सफेद होते हैं। फूल दिखने में सरसों के फूलों के समान होते हैं।

रंग के अनुसार मूली दो प्रकार की होती है।

  1. सफेद मूली
  2. लाल मूली

इसके बीजों और जड़ों से सफेद तेल निकाला जाता है।

मूली के पौष्टिक तत्व | Radish Nutrients

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
प्रोटीन0.68 ग्राम
ऐश0.55 ग्राम
सोडियम39 मिलीग्राम
कॉपर0.05 मिलीग्राम
मैंगनीज0.069 मिलीग्राम
सेलेनियम0.6 माइक्रोग्राम
विटामिन सी14.8 मिलीग्राम
नियासिन0.254 मिलीग्राम
विटामिन-बी60.071 मिलीग्राम
टोटल लिपिड (फैट)0.1 ग्राम
विटामिन-के (फाइलोक्विनोन)1.3 माइक्रोग्राम

मूली के फायदे | muli khane ke fayde

हिचकी की परेशानी में मूली के फायदे

हमको कई बार अक्सर हिचकी आती है। आपकी हिचकी को दूर करने में आपको muli बहुत ही फायदे मंद है। मूली का जूस निकालना है या फिर आपको सुखी हुई मूली से काढ़ा बनाना है। और उसको आपको करीबन 50 से 100 मिली की मात्रा में आपको 1 और 1 घंटे के बाद उसको पीना है। और करीबन राजना ऐसा करने से आपको हिचकी की समस्या से बहुत ही फायदा हो सकता है।  

दाद खाज और खुजली में मूली के लाभ

दाद खाज और खुजली जैसी समस्या से छुटकारा पाने में आपको मूली बहुत ही फायदे मंद है। आपको मूली को नींबू के रस में पीस कर मिक्स करना है। और फिर उसके बाद आपको उसे बीमार अंग पर लगाना है। और ऐसा करने से आपकी दाद खाज और खुजली जैसी समस्या ठीक हो जायेगी। 

मूली खाने से सूजन का इलाज

आप सभी muli का सेवन करते है  तो उससे आपको सूजन की समस्या से राहत मिलती है। आपको सूजन के इलाज के लिये करीबन 5 ग्राम तिल के साथ साथ मूली के करीबन 1 से 2 ग्राम बीजो का सेवन करना है। और फिर रोजाना दिन में तीन से चार बार सेवन करने से आपकी सूजन ठीक होती है।

आंखों के रोग में मूली के फायदे

आंखो के अलग अलग तरह के रोगो से छुटकारा पाने के लिए आप मूलि का इस्तेमाल कर सकते है। मूली का सेवन करने से आंखो को बहुत ही फायदा मिलता है। आपको रोजाना मूली के रस को आपकी आंखो में काजल की तरह लगाए। ऐसा रोजाना करने से आपको आंखो की बीमारिया ठीक होती है। 

मूली के इस्तेमाल से कंठ के रोग का इलाज

आप सभी लोग यह सोच रहे होंगे की क्या muli के इस्तेमाल से कंठ के रोग से छुटकारा पाया जा सकता है। तो यह बिलकुल सच है आपको मूली के करीबन 5 से 10 ग्राम बीज को भूनकर उसको गर्म जल के साथ रोजाना दिन में 3 से 4 बार सेवन करने से आपको कंठ रोग से छुटकारा मिल सकता है और आपका गला भी साफ हो जायेगा।  

मूली के फेयदे पाचन तंत्र विकार में

पाचनतंत्र को ज्यादा मजबूत बनाने के लिए आपको रोजाना खाने के बाद मूली का इस्तेमाल करे। क्योकि आगे आप भोजन करने से पहले मूली का सेवन करते है तो वो पचन में ज्यादा समय लेता है। और अगर आप भोजन करने के बाद इस्तेमाल करते है तो भोजन को पचाने में सहायता करता है। 

दस्त में मूली का औषधीय गुण लाभदायक

दस्त की समस्या से राहत पाने के लिए आपको मूली का सेवन करना बहुत ही फायदे मंद है। क्योकि muli के औषधीय गुण से आपको बहुत ही फायदा हो सकता है। आपको बहुत ही मुलायम और कोमल मूली से बने करीबन 10 से 30 मिली काढ़ा के अंदर आपको 1 से 2 ग्राम पीपर का चूर्ण मिक्स करले। और फिर उसका सेवन करने से दस्त को रोक सकते है। 

मूली का वीडियो | Muli Ke Fayde Video

मूली बवासीर की आयुर्वेदिक दवा है | Radish is ayurvedic medicine for piles

आज कल बवासीर की समस्या बहुत सारी जगह पर देखने को मिलती है। और आपको इससे छुटकारा पाने के लिये muli का सेवन करना बहुत ही फायदे मंद साबित हो सकता है। आपको मूली का करीबन 20 मिली रस निकालना है। और फिर उसके अंदर आपको करीबन 50 ग्राम गाय का घी मिक्स करके उसका सेवन करने से बवासीर में फायदे मंद  हो सकता है। 

मूली की सब्जी का सेवन करने से आपको वात दोष के जरिये होने वाले बवासीर से आपको फायदा होता है। muli के पत्तो को आपको छाव में सुखाना है और उसको भून लेना है। और फिर उसके अंदर सिमित मात्रा में चीनी को मिक्स करके करीबन 40 दिन तक रोजाना 25 से 50 ग्राम की मात्रा में उसका सेवन करना है। और उससे आपको बवासीर में फायदा मिलता है। 

मूली को सुरक्षित रखने का तरीका | how to preserve radishes

  • मूली के पत्तों को अलग रख लें।
  • मूली के पत्ते भी पौष्टिक होते हैं और इनका सेवन साग के रूप में किया जा सकता है।
  • अब मूली को अच्छे से धो लें और फिर इसके पानी को थोड़ा सूखने दें.
  • फिर एक साफ कपड़े से धो लें।
  • फिर उसमें से सारा पानी निचोड़ लें।
  • फिर मूली को कपड़े में लपेट कर फ्रिज में रख दें।
  • ऐसा करने से मूली सूखेगी नहीं और कुछ दिनों तक ताजा रहेगी।
  • सावधान रहें कि मूली को प्लास्टिक में न रखें, क्योंकि इससे मूली जल्दी खराब हो सकती है।

मूली का उपयोग | use of Muli

हमने आपको मूली खाने के फायदे के बारे में आपको बताया। और अब हम आपको इसका सेवन कैसे करना है  इसके बारे में बताने वाले है। muli खाने का सबसे अच्छा समय दोपहर का होता है। और इसी लिए आपको लंच के साथ साथ कच्ची मलिका इस्तेमाल सलाद के रूप में कर सकते है। आप सभी लोग मूली की सब्जी बना सकते है।

और उसका सेवन भी कर सकते है। आपको ज्यादा से ज्यादा स्वास्थ्य लाभ प्राप्त हो इसके लिए आपको सब्जी के अंदर तेल न के बराबर मूली को डालना है। muli ke parathe बनाकर भी आप उसका सेवन कर सकते है। मूली का सुप बनाकर आप उसको पि सकते है। muli के साथ साथ मूली की पत्तिया भी बहुत ही फायदे मंद होती है। और तो और इसका साग बनाकर भी आप खा सकते है।  

मूली के नुकसान | Muli ke nukasaan

muli सेहत के लिए बहुत ही फायदे मंद है। और उसका रोजाना सेवन करने से आप शरीर की सभी समस्याओ से छुटकारा प्राप्त कर सकते है। परन्तु आप मूली खाने के फायदे के बारे में जान ने के बाद अधिक मात्रा में सेवन करने न लग जाये। आपको बतादे की किसी भी चीज का अधिक मात्रा में सेवन करना  नुकशान दायक भी हो सकता है। 

मूली का ज्यादा सेवन करने से आपको होने वाले नुकशान

  • पेट दर्द
  • जलन
  • गले का सूखना
  • डायरिया

इसी की वजह से आपको मलि का सेवन सिमित मात्रा में ही करना चाहिये। और तो और आपको बतादे की muli खाने के बाद आपको किस चीज को नहीं खाना है 

  • आपको मछली खाते वक्त आपको मूली का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए ,
  • मूली खाने के बाद तुरंत आपको कभी भी दूध नहीं पीना चाहिये। 

हमने आपको मूली खाने के फायदे के बारे में बताया। अब आपको इसका इस्तेमाल करना चालू कर लेना चाहिए। और सबसे खास बात हमने आपको ऊपर बताये गए स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित है तो आपको  मूली का इस्तेमाल करने से पहले किसी जाने माने स्वास्थ्य चिकिस्तक की सलाह जरूर लें। 

FAQ

Q : मूली खाने के क्या फायदे और नुकसान हैं?

A: आयुर्वेद के अनुसार मूली सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। मूली में प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, मैंगनीज, विटामिन सी, फोलिक एसिड के साथ कई ऐसे गुण होते हैं जो कैंसर, सर्दी, हृदय रोग, वजन घटाने में मदद करते हैं। जानें इसके फायदे और नुकसान।

Q : क्या मूली खाने से गैस होती है?

A: इससे गैस की समस्या नहीं होगी। मूली – मूली सर्दियों की सब्जी है, लेकिन यह देश के कई हिस्सों में साल भर पाई जाती है। अगर आपको मूली बहुत पसंद है तो आप इसे परांठे या सलाद के रूप में सीमित मात्रा में खा सकते हैं। मूली खाने के बाद गैस की समस्या हो तो अजवायन को पानी के साथ लें।

Q : क्या मूली खाने से बढ़ जाती है शुगर?

A: वहीं, इसमें मौजूद तत्व इंसुलिन को रेगुलेट करने का काम करते हैं। मूली शुगर के स्तर को नहीं बढ़ाती है, इसलिए यह मधुमेह रोगियों के लिए भी अच्छी होती है।

Q : मूली के क्या फायदे हैं?

A: मूली में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो कई बीमारियों की संभावना को कम करते हैं। मूली खाने से सर्दी-जुकाम नहीं होता, लेकिन मूली का सेवन सुबह और दिन में करना चाहिए। तो यह ज्यादा फायदेमंद होगा। इसके अलावा मूली में एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं, जो शरीर को एक्टिव रखते हैं और थकान को दूर करते हैं।

Q : मूली और चीनी खाने से क्या होता है?

A: इसका 1 ग्राम सेवन करने से खांसी में लाभ होता है। इसके साथ ही चीनी और हल्दी का हलवा खाना ज्यादा फायदेमंद होता है। 10-30 मिलीलीटर कच्ची मूली का रस पीने से सर्दी-जुकाम में लाभ होता है।

इसे भी पढ़े : 
Default image
Khemaraj__009
Hello दोस्तों मैं इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। मेरी वेबसाइट के जरिये से आपको और आपके परिवार के लिए Health Tips के बारे में और उनसे जुडी कुछ टिप्स आपको को हम हिंदी भाषा में देते है।
Articles: 292