वृश्चिकासन योग के फायदे । How To Use Vrischikasana Yoga In Hindi

Vrischikasana Yoga in hindi : वृश्चिकासन से मिलेगा अच्छा स्वस्थ्य यदि आप अपने पाचनतंत्र को मजबूत करना चाहते है और विक्टर को जो कुछ भी खाने की इच्छा है उसे अच्छी सेहत मिलेगी तो आसन आपको जरुर करना चाहिए।

ब्रह्मचर्य का पालन करने वालो के लिए भी वृश्चिकासन बहुत ही अधिक लाभदायक है कि जो लोग आसन ब्रह्मचर्य में सहायक होते हैं उन्हें स्वप्न जैसीसमस्याओं से भी छुटकारा मिल जाता है।

वृश्चिकासन योग क्‍या है | What Is Vrischikasana Yoga

वृश्चिकासन योग एक उन्नत उलटा है जो बैकबेंड के साथ एक प्रकोष्ठ संतुलन को जोड़ता है। इसके लिए कंधे और बाहों में लचीलापन संतुलन और ताकत की आवश्यकता होती है। इस मुद्रा का नाम संस्कृत वीआरएसचिका से आता है जिसका अर्थ है बिच्छू और आसन जिसका अर्थ है मुद्रा।

vrischikasana yoga का अभ्यास करने के लिए योगी पिंच मयूरसाना में शुरू होता है और फिर घुटनों को झुकता है ताकि पैरों को सिर के पास जमीन दी जा सके जिससे बैक। अंग्रेजी में आ गया हो।

वृश्चिकासन योग कैसे करे | How to do Vrischikasana Yoga

वृश्चिकासन योग के फायदे । How To Use Vrischikasana Yoga In Hindi
  • जमीन पर योगा मैट या चटाई बिछाकर खड़े हों।
  • अपने हाथों और घुटनों को जमीन पर टिकाएं।
  • हाथों पर हाथ रखें और दाएं हाथ कोहनी को दाएं और दाहिने हाथ में रखें।
  • ध्यान रखें कि अब अपने हाथ के बीच की दूरी कंधे के बीच की दूरी के समान है।
  • अब शरीर के संतुलन से ऊपर से कूल्हों को बढ़ाएं।
  • अब जमीन से दोनों घुटनों को उठाएं और सिर की vrischikasana yoga pose में आते हैं।
  • पैरों को सिर की ओर सिर की ओर रखते हुए।
  • इस स्थिति में लगभग 20 और 30 सेकंड के लिए जीने के बाद पैर दोनों पैरों को आराम करने और जमीन पर आते हैं।
  • आप शीर्ष पर नहीं हैं तो आप दीवार का सहारा कर सकते हैं।
  • सामान्य स्थिति में आएं और शरीर को कुछ देर के लिए आराम की स्थिति में रखें।

वृश्चिकासन योग करने का तरीका | Vrischikasana Yoga karane ka tareeka

वृश्चिकासन योग के फायदे । How To Use Vrischikasana Yoga In Hindi
  • इस आसन को करने के लिये प्रथम भूमि पर बैठकर कोहनी से पंजे तक के हाथ भूमि पर रखें
  • हाथों की हथेलियां भूमि पर लगी रहें और अंगुलियां फैली रहें ।
  • हाथों पर पूरे शरीर का भार रखते हुए धीरे-धीरे पैरों को ऊपर उठाएं।
  • और कमर को मोड़ते हुए पैरों को घुटनों पर मोड़कर रखने की कोशिश करें
  • गर्दन को ऊपर उठाएं सांस को रोककर रखें।
  • शरीर को डंक मारने वाले बिच्छू के आकार का होना चाहिए।
  • इसे पसरत हस्त वृश्चिक कहा जाता है।
  • कुछ लोग इसे केवल पैर की उंगलियों पर करते हैं।
  • किसी भी तरह से लाभ अक्सर समान होते हैं।
  • वृष राशि करते समय आप दंड भी लगा सकते हैं।

वृश्चिकासन योग के फायदे | Benefits of Vrischikasana Yoga

  1. मांसपेशियों को मजबूत बनाने में फायदेमंद है
  2. पेट को टोन करता है
  3. संतुलन में सुधार पाने के लिए
  4. श्वास क्षमता में वृद्धि करने में फायदेमंद है

1. मांसपेशियों को मजबूत बनाने में फायदेमंद है

वृश्चिकासन में शरीर का वजन उन बाहों पर संतुलित होता है जो कंधे बाहों और कलाई की मांसपेशियों को काम करते हैं। इसके अलावा पैर की मांसपेशियों को हिप फ्लेक्सर्स छाती और रीढ़ के साथ गहरी खिंचाव मिलता है। यह उनकी लचीलापन को बढ़ाता है और उन्हें मजबूत और स्थिर बनाता है।

2. पेट को टोन करता है

वृश्चिकासन में ट्रंक भी जमीन से हटा दिया जाता है। यह पेट की मांसपेशियों को फैलाता है और उन्हें टोन करता है। यह मुख्य मांसपेशियों को मजबूत करता है और सहनशक्ति को बढ़ावा देता है। यह वसा जमावट से छुटकारा पाने में मदद करता है और पेट के अंगों को मालिश करके पाचन में सुधार करता है।

3. संतुलन में सुधार पाने के लिए

यह एक उल्टा मुद्रा है। यहां सिर उस दिल से नीचे स्थित है जो रक्त प्रवाह को मस्तिष्क में बढ़ाता है। तंत्रिकाओं तक पहुंचने वाले ऑक्सीजन की मात्रा भी बढ़ जाती है। यह दिमाग को शांत करने में मदद करता है और शरीर में नियंत्रण और समन्वय की भावना लाता है। इसलिए शरीर में समग्र संतुलन में सुधार करने के लिए जाना जाता है।

4. श्वास क्षमता में वृद्धि करने में फायदेमंद है

पूरी तरह से मुद्रा को पकड़ते समय छाती भी फैली हुई है। यह फेफड़ों के विस्तार में मदद करता है और ऑक्सीजन सेवन बढ़ाता है। यह श्वसन प्रणाली की दक्षता में सुधार करता है।

वृश्चिकासन योग की विघि | Method of Vrischikasana Yoga

वृश्चिकासन योग के फायदे । How To Use Vrischikasana Yoga In Hindi
  • इस आसन को करने के लिये प्रथम भूमि पर बैठकर कोहनी से पंजे तक के हाथ भूमि पर रखें।
  • हाथों की हथेलियां भूमि पर लगी रहें और अंगुलियां फैली रहें।
  • पूरे शरीर का भार हाथों पर रखते हुए पैरों को धीरे-धीरे रखें।
  • शरीर को डंक मारने वाले बिच्छू के आकार का होना चाहिए। शरीर के सामने की ओर जमीन पर लेट जाएं।
  • इसके बाद इस आसन को छाती पर करें यानी पैरों को ऊपर लाकर सिर या जमीन पर टिका दें।
  • वृश्चिक राशि करते समय सजा भी हो सकती है।
  • पैरों को थोड़ा ऊपर उठाएं चेहरे को नीचे करें और साथ ही पैर भी नीचे आएं।
  • फिर ऊपर को उठें इसी प्रकार बार-बार करें। इसे वृश्चिक दण्डासन कहते हैं।

वृश्चिकासन योग का अर्थ | Meaning of Vrischikasana Yoga

संस्कृत में वृश्चिक बिच्छू को संदर्भित करता है और आसन मुद्रा है। जब शरीर को इस मुद्रा को करने के लिए उलटा हो जाता है तो इसके बाद घुटनों को पैर को पैर को लैंडिंग करना होता है। यह अपनी पूंछ के साथ बिच्छू जैसा दिखता है इसके शिकार के लिए स्टिंग करने के लिए तैयार है। इसलिए जिसे वृश्चिकसन या बिच्छू मुद्रा के रूप में जाना जाता है।

वृश्चिकासन योग चरण | Vrischikasana Yoga step

  • पंख वाले मोर मान लें। सामान्य रूप से सांस। घुटनों को मोड़ो।
  • सुनिश्चित करें कि हथियार सिर के किनारों पर हैं।
  • हथियारों का सामना करने वाले हथेलियों के साथ समानांतर होना चाहिए।
  • इसके अलावा ऊपरी बाहों की लंबवत सुनिश्चित करना पैर को सिर की ओर कम करना।
  • साथ ही सिर को पैर की ओर वापस बढ़ाएं।
  • सिर के शीर्ष पर ऊँची एड़ी के जूते रखें। यह अंतिम स्थिति है।
  • सामान्य रूप से सांस। जब तक यह आरामदायक हो तब तक स्थिति रखें।
  • स्थिति को छोड़ने के लिए पंख वाले मोर में वापसी।

वृश्चिकासन योग की सावधानियां | Precautions of Vrischikasana Yoga

वृश्चिकासन योग के फायदे । How To Use Vrischikasana Yoga In Hindi
  • इस आसन का अभ्यास गंभीर हृदयरोग से पीड़ित होनेपर ना करे।
  • माहवारी के समय या गर्भावस्था में इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • कंधे जांघ लेकिन चोट या गंभीर समस्या पर स्कोर नहीं करना चाहिए।
  • गंभीर उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों को इसका अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • यदि आप इसे पहली बार अभ्यास करते हैं तो एक योग्य गुरु या विशेषज्ञ विशेषज्ञ की देखरेख में करे।
  • जो आपको बता सके की आप शारीरिक एवं मानसिक रूप से इस आसन के लिए तैयार है।

वृश्चिकासन योग का वीडियो | Vrischikasana Yoga Ka video

FAQ

Q : vrischikasana yoga benefits हैं?

A : भौतिक उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को गिरफ्तार करता है।
1. मस्तिष्क और पिट्यूटरी ग्रंथि में रक्त प्रवाह में सुधार करता है।
2. सभी शरीर प्रणालियों को पुनर्जीवित करता है।
3. निचले अंगों और पेट में परिसंचरण में सुधार करता है।
4. खिंचाव और पीठ को ढीला करता है।
5. हथियारों को मजबूत करता है।

Q : वृश्चिकासन योग कब तक धारण करना चाहिए?

A : vrischikasana yoga में प्रत्येक पैर पर लगभग 1 मिनट तक रह सकते हैं दाहिने पैर पर 1 मिनट बाएं पैर पर 1 मिनट बदला जा सकता है। इसे प्रत्येक पैर पर 5 बार दोहराया जाएगा। ट्री पोज रीढ़ को सहारा देता है और मजबूत करता है। यह आसन आपके शरीर और मुद्रा दोनों के संतुलन को बेहतर बनाने में मदद करता है।

Q : वृश्चिकासन योग मैं कैसे सीख सकता हूँ?

A : दीवार पर अपने पैरों के साथ खड़े हो जाओ। चूंकि आपके हाथ दीवार से आगे हैं दीवार पर अपने पैरों को रखकर आपकी रीढ़ की हड्डी में एक बैकबेंड स्थिति पैदा होगी। अपने घुटनों को मोड़ें और अपने रीढ़ को विस्तार में खींचने के लिए अपने पैरों को अपने सिर की ओर दीवार से नीचे ले जाएं।

Disclaimer :  How To Use Vrischikasana Yoga  In Hindi – तो  फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये। 
इसे भी पढ़े : 
Default image
Khemaraj__009
Hello दोस्तों मैं इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। मेरी वेबसाइट के जरिये से आपको और आपके परिवार के लिए Health Tips के बारे में और उनसे जुडी कुछ टिप्स आपको को हम हिंदी भाषा में देते है।
Articles: 292