शवासन क्या है | शवासन के फायदे | How To Use Shavasana In Hindi

0
95

Shavasana : योगासन स्वास्थ” के लिए कई तरह से लाभदायक होते हैं। ये न सिर्फ शरीर को सेहतमंद बल्कि मन और दिमाग को शांत रखने में भी मदद कर सकते हैं। जिन्हें हर दिन करने की सलाह दी जाती है। हालांकि शवासन देखने में आसान वास्तव में सबसे कठिन योगासनों में से एक माना जाता है। क्योंकि” यह जटिल योगासनों के बजाय दिमाग और पूरे शरीर को शांत रखने की कोशिश करता है। shavasana yoga करने के कई लाभ है।  

Shavasana क्या है | What is Autopsy

शवासन दो शब्दों के मेल से बना है। एक शव और दूसरा आसन। इस आसन में शव की मुद्रा में रहकर पूरे शरीर को शांत रखने की कोशिश की जाती है। इस मुद्रा में एक लाश की तरह मन और मस्तिष्क” को सभी प्रकार के विचारों से मुक्त करने का प्रयास किया जाता है। दिमाग को शांत और शरीर को रिलैक्स करने के लिए इसे अक्सर जटिल योग क्रियाओं के बाद रेस्टिंग पोज के रूप में किया जाता है। 

शवासन के 4 फायदे | 4 Benefits Of Shavasana

  1. एकाग्रता और स्मरणशक्ति बेहतर करे
  2. ऊर्जा का स्तर बढ़ाए
  3. शरीर को रिलैक्स करे
  4. ध्यान मुद्रा में लाए

1. एकाग्रता और स्मरणशक्ति बेहतर करे | Improve concentration and memory

एंग्जायटी यानी चिंता से आराम पाने के लिए भी shavasana benefits सिद्ध हो सकता है। जैसा कि हमने ऊपर बताया यह आसन शरीर और मन को शांत रखने की कोशिश करता है। जिसके लाभ असहज परिस्थितियों पर काबू पाने में भी मिल सकते हैं। इसलिए बेचैनी से राहत पाने के लिए इसे योगासनों में भी शामिल किया जा सकता है। सांस लेने के कई फायदे हैं। इसे रक्तचाप को नियंत्रित करने में लाभकारी कहा जाता है। इस कारण इसका अभ्यास उच्च रक्तचाप की समस्या से आराम पाने के लिए भी किया जा सकता है। 

2. ऊर्जा का स्तर बढ़ाए | Increase energy level

Shavasana को शरीर को ध्यान मुद्रा में लाने के लिए एक प्रभावीशरीर को ध्यान shavasana pose में लाने के लिए शवासन को एक प्रभावी योगासन माना जाता है। और नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन द्वारा सिद्ध किया गया है। इस शोध के अनुसार शरीर को बिना हिलाए और आसन में लेटे हुए मन को शांत करते हुए को ध्यान मुद्रा में आसानी से पहुंचाया जा सकता है। 

3. शरीर को रिलैक्स करे | Relax the body

जब शरीर विभिन्न तरह के योगासन करके थक जाता है। और सांस तेज चलने लगती है। तो उसे सांस की मदद से आराम दिया जा सकता है। इसे आराम मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है यानी सांस लेने के लाभों के कारण विश्राम मुद्रा। इसके कार्य पर कोई शोध उपलब्ध नहीं है। कि शरीर के विभिन्न योग करने के बाद लेट कर गहरी सांस ली जाती है। 

4. ध्यान मुद्रा में लाए | Meditate

शरीर को ध्यान मुद्रा में लाने के लिए shavasana helps to reduce प्रभावी योगासन माना जाता है। और नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन द्वारा सिद्ध किया गया है। इस शोध के अनुसार शरीर को बिना हिलाए और दिमाग को शांत कर जब एक पोस्चर में लेटा जाता है। तो शरीर को ध्यान मुद्रा में आसानी से पहुंचाया जा सकता है। 

इसे भी पढ़े : मेथी के फायदे और नुकसान 

शवासन करने का तरीका | Method of embalming

शवासन क्या है और शवासन के फायदे |  How To Use Savasana In Hindi

  • अब दोनों हथेलियों को शरीर से लगभग एक फुट की दूरी पर रखें और हथेलियों को ऊपर की ओर रखें।
  • इसके साथ ही पैरों को एक दूसरे से लगभग दो फीट की दूरी पर रखें।
  • सबसे पहले एक साफ और शांत जगह ढूंढ कर वहां योगा मैट बिछा लें।
  • जब आप सांस लेने की मुद्रा में हों तो धीमी सांस लें और सांस पर ध्यान देने की कोशिश करें।
  • इस प्रक्रिया को लगभग 5 से 10 मिनट तक दोहराएं।
  • अब पीठ के बल इस मैट पर लेट जाएं और आंखें बंद कर लें।
  • इसके बाद उठ कर बैठें। आंखें बंद रखते हुए अपनी दोनों हथेलियों को आपस में मलें और फिर उन्हें अपने चेहरे पर रखें और हथेलियों की गर्माहट को महसूस करें।
  • पूरी प्रक्रिया पूरी होने के बाद दाईं ओर मुड़ें और एक मिनट के लिए उस स्थिति में रहें।

इसे भी पढ़े :लोमोफेन क्या है | लोमोफेन कैसे काम करता है 

शवासन का महत्व | Importance of autopsy

shavasana image

क्या आप जानते हैं कि शवासन से न केवल मानसिक और शारीरिक लाभ होते हैं। बल्कि आध्यात्मिक उपचार में भी मदद मिलती है। इस लेख में शावा आसन के लाभों को जानें और इसे बिल्कुल भी याद नहीं करना चाहिए।

  • शरीर को स्वस्थ रखने के लिए योग बहुत जरूरी है। जो हमारे शरीर को विभिन्न तरीकों Savasana benefits पहुंचाते हैं।
  • लेकिन तनाव दूर करने के लिए भी योग का सहारा लिया जा सकता है।
  • एक ऐसा योग जिसे करने में आपको किसी शारीरिक श्रम की जररत नहीं होती है। इस योग का नाम है।
  • इसे सभी उम्र के लोग कर सकते है। इस लेख के माध्यम से मैं आपको शवासन से संबंधित जानकारी के बारे में बताऊंगा शवासन क्या है।
  • ऐसा करने के लाभों और ऐसा करने के महत्व के बारे में पता होना महत्वपूर्ण है।

इसे भी पढ़े :बालों का झड़ना क्या है | बाल झड़ने से कैसे रोके

शवासन की विधि | Method of respiration

पीठ के बाल लेट जाएँ और दोनों पैरों में डेढ़ फुट का अंतर रखे। दोनों हाथों को शरीर से 6 इंच (15 सेमी) की दूरी पर रखें। हथेली की दिशा ऊपर की तरफ होनी चाहिए। सिर का समर्थन करने के लिए आप तौलिया या किसी कपड़े को दोहरा सकते हैं और इसे सिर के नीचे रख सकते हैं। इस दौरान यह ध्यान रखें कि सिर सीधा रहे।

शरीर के सभी अंगो को ढीला छोड़ दें। आँखो को कोमलता से बंद कर लें। सांस लेने के दौरान कोई अंग हिलना नहीं होता है। आप अपनी श्वास पर प्रतिक्रिया करते हैं और इसे अधिक से अधिक लयबद्ध बनाने की कोशिश करते हैं। श्वास लें और गहरी सांस लें ताकि पूरा शरीर शिथिल हो जाए। शरीर के सभी अंग शांत हो गये है।

Shavasana Karane Ka Vidaio

इसे भी पढ़े :केला के फायदे और नुकसान 

FAQ 

Q : शवासन कैसे करें?

  • A : अब वहां एक आसन या चटाई बिछा लें और पीठ के बल लेट जाएं।
  • शवासन में बस लेटना होता है।
  • आंखों को बंद कर लें।
  • दोनों हाथों को शरीर से कम से कम 5 इंच की दूरी पर करें।
  • दोनों पैरों के बीच में भी कम से कम 1 फुट की दूरी रखें।

Q : शवासन कब किया जाता है?

A : शव का अर्थ होता है मृत अर्थात अपने शरीर को शव के समान बना लेने के कारण ही इस आसन को शवासन कहा जाता है। इस आसन का उपयोग अक्सर yoga shavasana को समाप्त करने के लिए किया जाता है। यह एक आरामदायक आसन है और शरीर मन और आत्मा को नवस्फूर्ति प्रदान करता है।

Q : योग कितने प्रकार का होता है?

A : योग के मुख्य चार प्रकार होत हैं। राज योग,कर्म योग,भक्ति योग और ज्ञान योग।

Q : सबसे पहले योग कौन सा करना चाहिए?

A : हालांकि इसमें से बहुत से लोग नहीं जानते कि कौन सा योग है। जिससे शुरूआत करनी चाहिए। शरीर के विभिन्न रोगों के लिए योगासन या प्रतिदिन शुरू करने से पहले कमलासन या पद्मासन करना चाहिए। ध्यान के लिए किया जाने वाला यह योग शरीर और मन को केंद्रित करता है और मन को एकाग्र करता है। 

Shavasana | Disclaimer 

How To Use shavasana In Hindi – तो  फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये। 

इसे भी पढ़े :पवनमुक्तासन क्या हैं | पवनमुक्तासन के फायदे