सर्वांगासन क्या है | सर्वांगासन के फायदे | How To Use Sarvangasan In Hindi

0
276

Sarvangasan In Hindi : सर्वांगासन में संपूर्ण शरीर का व्यायाम होता है। और इसी लिए इसे सर्व-अंग-आसन सर्वांगासन नाम दिया गया है। इस आसन को करने से आप हमेशा स्वस्थ रहेंगे और किसी भी प्रकार की बीमारी भी नहीं होगी।

सर्वांगासन क्या है | What Is Sarvangasan

sarvangasana yoga शास्त्र में वर्णित एक उत्तम योगासन है। इस आसन से सभी अंग प्रभावित होते हैं। सर्वांगासन में शरीर उल्टी “अवस्था” (उल्टा स्थिति) में रहता है। एटी ए जैसे कि दिमागी रोग मानसिक “स्वस्थ” ता के लिए बेहतर है। साथ ही इसे करने के अन्य लाभ भी हैं। जिनके बारे में लेख में आगे “विस्तार” से बताया गया है। इसलिए इसे शोल्डर स्टैंड पोज (शोल्डर स्टैन्ड योग) भी कहते हैं।

सर्वांगासन के 4 फायदे | 4 Benefits Of Sarvangasan | benefits of sarvangasana in hindi

  1. पाचन शक्ति बढ़ाता है
  2. नींद और चिंता को कम करता है
  3. सर्वांगासन थायराइड के लिए
  4. बालों को गिरने से रोकता है

1. पाचन शक्ति बढ़ाता है

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि सर्वांगासन से शरीर के सभी अंगों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जिसमें अपच में सुधार कर पाचन क्रिया को मजबूत बनाना भी शामिल है। इसके अलेवा यह इब्रिटेबल आधार सिंड्रोम (आकाश से जुड़ा विकास) को नियत्रत्त करना का काम भी है।

2. नींद और चिंता को कम करता है

चिंता को देर करना और नींदो को बढावा देने में भी सर्वंगासन के लब्खाना जा सके हैं। salamba sarvangasana इस आसन का नियमित अभ्यास चिंता अवसाद और तनाव जैसी समस्याओं को दूर करने का काम करता है। जिसका सकारात्मक प्रभाव नींद को बढ़ावा देने का काम कर सकता है। हवल्कि यह आसमान सीधा तेचर पर किस्र काम करता है इस पर अहि और शोध की आवश्यकता है।

3. सर्वांगासन थायराइड के लिए

इस आसन के अभ्यास से थायराइड और पैराथाइरॉइड जैसी ग्रंथियों को उचित पोषक तत्व और रक्त प्राप्त होता है। जो थायराइड समस्याओं को हल करने के लिए मददगार है।

4. बालों को गिरने से रोकता है

यह आसनsarvangasana benefits hair। इसके नियमित अभ्यास से मस्तिष्क क्षेत्र में रक्त की सही आपूर्ति होती है जो पोषक तत्वों के आवागमन के लिए जरूरी है।

सर्वांगासन कैसे करें | how to do sarvangasan

sarvangasana image

योगा के हर एक आसान में सेहत को ठीक रखने और जीवन को लंबा बनायें का अचूक रहस्य छिपा हुआ है। sarvangasana शरीर के लिए eka pada sarvangasana है। इसे करना थोड़ा मुश्किल है लेकिन रोजाना करने setu bandha sarvangasana कुच्छ आसान हो जाता है। इस आसन का अभ्यास सॉफ हवादार जगहों पर करें। सबसे पहले आप एक चटाई या दरी को बिछाकर पीठ के बाल लेट जाएँ। इसके bandha sarvangasana दोनों पैरों को मिलाकर और पूरे शरीर को सीधा तान कर रखें। अब सांस अंदर लेकर धीरे-धीरे पैर को ऊपर उठाएं। इसके बाद अपने दोनों हाथों को कोहनी से मोड़कर कमर पर लगाकर कमर को थामकर रखें।

आसान की इस पोज़िशन में पूरे शरीर का भर कंधो पर रहना चाहिए।इस अवस्था में कंधे से कोहनी तक के भाग को फर्श से सटाकर रखें और थोड़ी को छाती में सटाकर रखे। इसके बाद शरीर को स्टेबल करते हुए एस पोज़िशन में 30 सेकेंड तक रहें और नॉर्मल रूप से साँस लेते और छोड़ते रहें। धीरे धीरे इस एक्सर्साइज़ को बढ़ाकर आसान की स्थिति में 3 मिनिट तक रह सकते हैं। इसके बाद 10 सेकेंड तक आराम करें और फिर से इस आसान को करें। आप इस आसान के प्रोसेस को 3 बार कर सकते हो।

सर्वांगासन करने का तरीका | Sarvangasan karane ka tareeka

 sarvangasana images
  • अब मैट पर पीठ के बल लेट जाएं और दोनों हाथों को शरीर से सटाकर सीधा कर लें।
  • अब सांस लें पैरों कूल्हों और कमर को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं।
  • साथ ही हाथों से कमर को सहारा दें और कोहनियों को जमीन से बंद कर लें।
  • ध्यान रहे कि आपके दोनों पैर आपस में सटे और सीधे रहें।
  • इस दौरान आपके शरीर का भार कंधों कोहनियों और सिर पर रहेगा।
  • साथ ही आपकी ठुड्डी छाती को स्पर्श करेगी।
  • कुछ देर इसी sarvangasana pose में बने रहें और सामान्य रूप से सांस लेते रहें।
  • फिर धीरे-धीरे वापस अपनी प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

सर्वांगासन की विधि | Method of Sarvangasan

  • आसन पर सीधे लेटें पांवों को तान कर श्वास भरते हुए धीरे-धीरे हाथों पर दबाव देते हुए 90 अंश तक ले जाएं।
  • यहां भी कुछ क्षण रुककर श्वास बाहर निकालते हुए कमर को उठाते हुए टांगों को भूमि से समानांतर करें।
  • अब दोनों हाथों को पीछे की ओर सपोर्ट करें। हाथ जितने नीचे होंगे पीठ उतनी ही सीधी होगी।
  • अब धीरे से दोनों पैरों को आसमान की तरफ उठाएं। ठुड्डी के चक्कर में।
  • कंधे से लेकर पंजों तक शरीर एक सीध में है। कोहनी अंदर की ओर रहती हैं। पैरों को ढीला करें
  • पूर्ण अवस्था में होने पर प्राकृतिक अवस्था में सांस लेना।
  • इस आसन का धीरे-धीरे अभ्यास करके आप इसे दस मिनट सकते हैं।

सर्वांगासन की सावधानियां | sarvangasan precautions

  • गंभीर ह्रदय रोग
  • उच्च रक्तचाप
  • गर्भावस्था
  • गर्दन में असहनीय दर्द
  • रीढ़ की हड्डी से जुड़ी समस्या

आप स्वास्थ्य के लिए sarvangasana steps and benefits के बारे में अच्छी तरह से अवगत हो गए होंगे। जिसका पालन कर इस आसन का अभ्यास सही प्रकार से किया जा सकता है। साथ ही इस लेख में बताई गईं सावधानियों का भी पूरा ध्यान रखना जरूरी है। यहां एक बार फिर से बता दें कि sarvangasana का फायदा तभी होगा जब अनुशासित दिनचर्या व पौष्टिक आहार का सेवन किया जाए। साथ ही किसी भी गंभीर शारीरिक समस्या के लिए डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। इसके अलावा इस आसन से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के जरिए हमसे पूछ सकते हैं।

sarvangasana video

FAQ

Q : सर्वांगासन कब करे?

A : सर्वांग आसन हमेशा खाली पेट ही करना है। इस आसन को सुबह करने से अधिक लाभ मिलता है। सर्वांग आसन सम्पूर्ण लाभ लेने के लिए इस आसन के बाद शवासन में विश्राम लेने के बाद, मत्स्यासन करना चाहिए।

Q : सर्वांगासन कैसे किया जाता है?

A : जमीन पर दरी आदि बिछाकर सीधा लेट जाएं । पैरों को एक साथ रखें, अपने हाथों को अपने पक्षों के करीब रखें और उन्हें जमीन पर सीधा रखें। अब सांस पूरी तरह से भर लें और पैरों को सीधा रखें, धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठें और पैरों को 90 डिग्री के कोण पर पैर को पूरा उठाएं जब आप पैरों को ऊपर उठाएं तो हाथों का सहारा ले।

Q : सर्वांगासन कितनी देर तक करना चाहिए?

A : इस आसन के दौरान लंबी गहरी सांसें लेती रहें और 30-60 सेकेंड तक आसन में ही रहें।

Q : सर्वांगासन क्या खतरनाक है?

A : सलंबा सर्वांगासन में लापरवाही बरतने से आपकी रीढ़ और गर्दन को परेशानी हो सकती है। यह एक अस्थिर मुद्रा है और हमारा शरीर ऐसी स्थिति में आने से परिचित नहीं है। शुरुआती लोगों को इस sarvangasana yoga pose को करने से सख्ती से बचना चाहिए। कई yoga sarvangasana कक्षाओं में प्रशिक्षक अपनी जटिलता के कारण इस मुद्रा को नहीं सिखाते हैं।

Q : सर्वांगासन क्या हम प्रतिदिन कर सकते हैं?

A : दोहराना मत न तो ऊपर निर्दिष्ट समय की सीमा से अधिक अभ्यास करें क्योंकि एक लंबी अवधि यदि इसे अन्य दैनिक योग शारीरिक व्यायाम के साथ-साथ अभ्यास किया जाना है तो कुछ मामलों में गलत साबित हो सकता है।

Q : क्या सर्वांगासन से बाल उग आते हैं?

A : एक उचित आहार और हाइड्रेशन सुनिश्चित करने के अलावा योग और ध्यान भी बालों के झड़ने को कम करने में मदद करता है और स्वस्थ बालों के विकास की ओर जाता है। यह शारीरिक और मानसिक दोनों के लिए समग्र स्वास्थ्य के लाभों से अलग है। सर्वांगासन (कंधे खड़े) थायरॉयड ग्रंथि के कामकाज को नियंत्रित करता है। और बालों के विकास को बढ़ावा देता है।

Q : आपको सर्वंगासन कब नहीं करना चाहिए?

A : ऋषिकेश में 200 घंटे के योग शिक्षक प्रशिक्षण के तहत एक विशेषज्ञ योग शिक्षक की देखरेख में इस मुद्रा का अभ्यास करें यदि आपके पास कुछ स्वास्थ्य स्थिति है। हृदय की समस्याएं गर्भावस्था स्लिप डिस्क सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस तीव्र थायरॉयड समस्या गर्दन में दर्द मासिक धर्म और उच्च रक्तचाप।

Q : सर्वांगासन के दौरान क्या होता है?

A : सर्वांगासन में कंधों और हाथों के सहारे पूरे शरीर को ऊपर उठाना शामिल है। इसलिए यह रक्त प्रवाह को उलट देता है। इस मुद्रा को करते समय आपकी गर्दन बंद हो जाती है परिणामस्वरूप रक्त का प्रवाह गर्दन और सिर की ओर कम हो जाता है।

Disclaimer : How To Use Sarvangasan In Hindi – तो फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये। 

इसे भी पढ़े :

Rating: 5 out of 5.