मत्स्यासन क्या है | मत्स्यासन के फायदे | How To Use Matsyasana In Hindi

Matsyasana In Hindi मत्स्यसन को हिन्दी मे मछली कहते हैं। मत्स्यसन योग करते समय योग करने वाला “व्यक्ति” मछली के आकार का होता है। इसलिए इसे मछली मुद्रा भी कहा जाता है। मत्स्यासन योग करने के कई फायदे हैं।

matsyasana क्या है | What is matsyasana

मत्स्यासन संस्कृत शब्द मत्स्य से निकला है जिसका अर्थ होता है मछली। मत्स्यासन योग पीठ के बल लेटकर किया जाने वाला आसन है। इसमें शरीर का आकार मछली जैसा दिखता है। इसलिए इसे मछली योग मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है। अगर सही तरीके से किया जाए तो इसके कई “स्वास्थ्य” लाभ हैं। matsyasana yoga गले और थायराइड के लिए एक उत्कृष्ट योगाभ्यास है। यह आपके पेट की चर्बी को कम करता है। और कमर दर्द से राहत दिलाता है। इसके करते समय कुछ सावधानी का भी “ध्यान” रखनी चाहिए जो नीचे बताया गया है।

मत्स्यासन के 3 फायदे | 3 Benefits Of Matsyasana | matsyasana benefits in hindi

  1. पेट की चर्बी के लिए
  2. थाइरोइड का इलाज मत्स्यासन से
  3. कमर दर्द के लिए

1पेट की चर्बी के लिए

इस आसन के अभ्यास से आप पेट की चर्बी को कम कर सकते हैं। लेकिन पेट की चर्बी को कम करने के लिए इस आसन को लंबे समय तक पहनने की आवश्यकता है ताकि पेट लंबा हो जाए। की इस आसन को कुछ महीनों तक करते रहा जाए।

2. थाइरोइड का इलाज मत्स्यासन से

थाइरोइड के इलाज के लिए मत्स्यासन रामबाण का काम करता है। यह आसन गर्दन के क्षेत्र में पाए जाने वाले थायरॉयड और पारा थायराइड की मालिश करता है जो थायरोक्सिन हार्मोन के स्राव में मदद करता है। यही थायरोक्सिन हॉर्मोन थाइरोइड के इलाज के लिए एक अहम भूमिका निभाता है।

3. कमर दर्द के लिए

यह आपके रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है और कमर दर्द से आपको निजात दिलाता है। इसे भी पढ़े : एज़िथ्रोमाइसिन टेबलेट क्या है

मत्स्यासन कैसे करें | how to do matsyasana

matsyasana images साधक सबसे पहले पद्मासन में बैठ जाएं। धीरे-धीरे पीछे झुकें और पूरी तरह पीठ पर लेट जाएं। बाएं पांव को दाएं हाथ से पकड़े और दाएं पांव को बाएं हाथ से पकड़ें। कोहनियों को जमीन पर टिका रहने दें। घुटने जमीन के पास होने चाहिए अब सांस लेते हुए अपने सिर को पीछे की ओर ले जाएं। या आप अपने सिर को हाथों की मदद से गर्दन की ओर भी मोड़ सकते हैं। धीरे-धीरे सांस लें और धीरे-धीरे सांस छोड़ें। इस अवस्था में खुद को बनाए रखें। फिर लंबा सांस छोड़ते हुए अपने आरम्भिक अवस्था में आएं। यह एक चक्र हुआ। इस तरह से आप 3 से 5 चक्र करें।

मत्स्यासन करने का तरीका | matsyaasan karane ka tareeka

images of matsyasana दोनों हथेलियों को जमीन पर खुला हुआ रखें। अब अपने दोनों हाथों को शरीर के नीचे लाएं और उन्हें अपने कूल्हों (hips) के नीचे रखें। ध्यान रखें हथेलियां कू्ल्हों के नीचे ही होनी चाहिए और दोनों कोहनी एक दूसरे से अधिक दूरी पर नहीं होना चाहिए। अब अपने सीने को ऊपर की ओर उठाएं और ठीक इसी समय सिर और गर्दन को पीछे की झुकाएं और सिर जमीन से छूने दें। अपने पैरों और नितंबों को ज़मीन पर स्थिर रखें और कोहनियों से बल का प्रयोग करते हुए सिर को नहीं बल्कि छाती को ऊपर उठाने की कोशिश करें। अंत में अपने पैर की उंगलियों को अपने पैर की उंगलियों से पकड़ें और कोहनियों को ढीला न होने दें। इस मुद्रा में बने रहें और धीरे-धीरे सांस लें। 15 से 30 सेकंड के लिए इस स्थिति में रहें और फिर थोड़ी देर आराम करें। नियमित अभ्यास के बाद धीरे-धीरे मछली पकड़ने की अवधि बढ़ाएं। matsyasana yoga pose से वापस निकलने के लिए पहले अपने दोनों पैरों को बड़े आराम से ऊपर उठाएं और फिर धीरे-धीरे इन्हें फर्श पर सीधे फैलाएं। कुछ मिनट तक गहरी सांस लें अपनी मांसपेशियों एवं मस्तिष्क को पूरी तरह आराम दें। इसे भी पढ़े : शीर्षासन क्या है

मत्स्यासन की विधि | Method of matsyasana

  • हाथों का सहारा ले पीठ को धीरे-धीरे पीछे की तरफ झुकाते हुये पीठ के बल लेट जायें।
  • आसन बिछा कर सुखासन में बैठ श्वास सामान्य करने के बाद पद्मासन लगायें।
  • हाथों से पैरों के अंगूठों को पकड़ उन्हें थोड़ा अपनी तरफ खींचते हुये matsyasana ठीक करें व घुटनों को जमीन पर अच्छी तरह टिका लें।
  • पैरों के अंगूठों को पकड़ लें। श्वास सामान्य लेते हुए यथाशक्ति रूकने के बाद पदमासन खोल लें व 2-3 मिनट शवासन में लेटे रहें।
  • हाथों का सहारा लें। कंधे पीठ ऊपर उठा गर्दन को पीछे की तरफ करते हुये सिर के अग्रभाग को ज़मीन पर टिका दें।

मत्स्यासन की सावधानियां | matsyasana precautions

  • यदि आप उच्च या निम्न रक्तचाप से पीड़ित हैं। तो आपको मछली से बचना चाहिए।
  • चूंकि मत्स्यासन गर्दन और मांसपेशियों (मांसपेशियों) से जुड़ा हुआ आसन है। इसलिए इस आसन को करते समय विशेष सावधानी की जरूरत होती है।
  • अगर आपकी गर्दन और पीठ और कमर में गंभीर दर्द होता है तो इस आसन को करने से बचें।
  • गर्भावस्था के दौरान मत्स्यासन से बचना चाहिए क्योंकि यह गर्भाशय पर अधिक दबाव डालता है। और कई समस्याओं का कारण बन सकता है।
  • हर्निया के रोगियों को इस आसन को नहीं करना चाहिए।
  • यदि कोई व्यक्ति माइग्रेन की समस्या से पीड़ित हो तो उसे मत्स्यासन नहीं करना चाहिए।

अर्ध मत्स्यासन | ardha matsyasana

अर्धमत्स्येन्द्र’ का अर्थ है शरीर को आधा मोड़ना या घुमाना। अर्धमत्स्येन्द्र आसन आपके मेरुदंड (रीढ़ की हड्डी) के लिए अत्यंत लाभकारक है। यह आसन फेफड़ों को ऑक्सीजन की सही मात्रा प्राप्त करने में मदद करता है या जननांगों के लिए बहुत फायदेमंद है। यह आसन रीढ़ की हड्डी से सम्बंधित है। इसीलिए इसे ध्यान पूर्वक किया जाना चाहिए। इसे भी पढ़े : प्राइमाफॉल क्या है

Matsyasana Ka Video

इसे भी पढ़े : मयूरासन क्या है 

FAQ

Q  : मत्स्यसन के क्या फायदे हैं? A : आपकी गर्दन गले और कंधों में तनाव से राहत दिलाता है। अपनी गर्दन और अपने एब्डोमिनल के सामने खिंचाव और टोन। खिंचाव और आपके पेट और गले के अंगों को उत्तेजित करता है। आपकी ऊपरी पीठ और आपकी गर्दन के पिछले हिस्से को मजबूत करता है। Q : matsyasana procedure क्या है?
  • A : कमल मुद्रा में बैठें।
  • धीरे से पीछे की ओर झुकें और लोटस पोस्चर जारी किए बिना फर्श पर लेटें।
  • छाती को थोड़ा ऊपर की ओर उठाएं।
  • फर्श को छूने वाली कोहनी के साथ बड़े पैर की उंगलियों को पकड़ें।
  • स्थिति को जारी करने के लिए फर्श पर वापस नीचे लाएं और सिर को सीधा करें।
Q : मत्स्यासन किसे नहीं करना चाहिए? A : जो लोग हृदय रोगों उच्च रक्तचाप या निम्न रक्तचाप से पीड़ित हैं। उन्हें “matsyasana” नहीं करना चाहिए। माइग्रेन और अनिद्रा के रोगियों को भी matsyasana (fish pose) का अभ्यास करने से बचना चाहिए। गंभीर गर्दन या पीठ के निचले हिस्से में चोट लगने वाले व्यक्तियों को इस मुद्रा को नहीं करने की जोरदार सलाह दी जाती है। Q : मत्स्यसन को मत्स्य मुद्रा क्यों कहा जाता है? A : मत्स्यसन (उच्चारित महत-देखना-एएचएस-उह-नुह) जिसे आमतौर पर मछली मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है। यह अनुमानत संस्कृत शब्द मत्स्य से आया है। मत्स्यसन ऊपरी पीठ की मांसपेशियों और गर्दन के पिछले हिस्से को भी मजबूत करता है। जिससे रीढ़ में लचीलापन और किसी की मुद्रा में सुधार हो सकता है।

Disclaimer 

 How To Use Matsyasana In Hindi – तो  फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये।  इसे भी पढ़े : नॉर-टीज़ेड क्या है

Related Posts