मंडूकासन क्या है और मंडूकासन के फायदे | How To Use Mandukasana In Hindi

mandukasana: योगासन को अंग्रेजी में ‘फ्रॉग पोज’ (मंडुकासन या मेंढक मुद्रा) भी कहा जाता है। दरअसल इस आसन को करने पर व्‍यक्ति” का शरीर मेंढक के आकार में बन जाता है। मंडूकासन करने से न सिर्फ पेट की मसल्‍स मजबूत होती है। बल्कि बेली फैट से भी छुटकारा मिलता है। यह अपच” से भी छुटकारा दिलाता है। हालाँकि मंडूकासन के और भी कई फायदे हैं। यह एक बहुत ही मूल आसन है जो हर कोई कर सकता है। यदि आपने योग करना केवल शुरू ही किया है तो आप इस योग आसन” को आसानी से कर सकते हैं।

मंडूकासन क्या है | What is mandukasana

mandukasana दो शब्द से मिलकर बना है। मंडूक जिसका अर्थ होता है। मेंढक और मुद्रा का अर्थ योग साधना है। इस आसन के करते समय शरीर मेंढक के जैसा प्रतीत होता है। इसलिए इसे मंडुकासन के नाम से जाना जाता है। इसे मेंढक मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है। यह आसन उदर से संबंधित विभिन्य रोगों के समाधान के लिए अहम भूमिका निभाता है।

मंडूकासन के 4 फायदे | 4 benefits of Mandukasana

  1. डायबिटीज रोकने के लिए
  2. मंडूकासन कब्ज के लिए
  3. गैस को निकालने के लिए 
  4. मंडूकासन तोंद के लिए

1. मंडूकासन डायबिटीज रोकने के लिए | To stop Mandookasan diabetes

इस आसन का सही अभ्यास करने से पैंक्रियास से इन्सुलिन का स्राव में मदद मिलती है जो मधुमेह या मधुमेह को काफी हद तक रोक जा सकता है।

2. मंडूकासन कब्ज के लिए | Manducasan for constipation

अगर आप कब्ज एवं अपच से छुटकारा चाहते हैं तो mandukasanaका अभ्यास जरूर करें। यह mandukasana yoga अभ्यास एंजाइमों और हार्मोन के स्राव में मदद करता है। जो भोजन के पाचन में मदद करता है। और कब्ज एवं अपच जैसी परेशानियों से आपको निजात दिलाता है।

3. गैस को निकालने के लिए | To remove the gas

हमारे पेट में तरह तरह के टॉक्सिन्स एवं जहरीली गैसें होते हैं। इस आसन का अभ्यास करके आप अपने पेट से जहरीले गैस को आसानी से निकाल सकते हैं।

4. मंडूकासन तोंद के लिए | For manducasana belly

अगर आपको अपना तोंद कम करना हो तो मंडूकासन करनी चाहिए। यह पेट पर बहुत दबाव डालता है और लंबे समय तक इस मुद्रा को रखने से पेट की चर्बी गलने में मदद मिलती है।

इसे भी पढ़े : वृक्षासन क्या है और वृक्षासन के फायदे 

मंडूकासन से पहले कौनसा आसन करना चाहिए | Which posture to do before Mandukasana

ऐसा कोई जरूरी नहीं है कि आपको मंडूकासन से पहले कोई आसन करना है। आप इसे पहले आसन के रूप में भी कर सकते हैं। इसे करने से पहले आप चाहे तो थोड़ी बहुत स्ट्रेचिंग कर सकते हैं परन्तु इतना कोई अवश्यक नहीं है।

मंडूकासन कैसे करें | How to Do mandukasana

मंडूकासन क्या है और मंडूकासन के फायदे - How To Use Mandukasana In Hindi

मंडूकासन की विधि बहुत आसान है लेकिन इसके ज़्यादे फायदे लेने के लिए अगर आप नीचे दिए गए तरीके को अपनाते है। आपको इसकी विधि बहुत सरल तरीके से बताई जा रही हैजिसे आप आसानी से अपने घर में ही कर सकते हैं।

  • पहले आप वज्रासन में बैठें।
  • अब आप मुट्ठी बांधकर अपनी नाभि के पास लाएं।
  • मुट्ठी को नाभि और जांघ के पास इस तरह रखें कि मुट्ठी खड़ी हो और उंगलियाँ आपके पेट की ओर हों।
  • साँस छोड़ते, आगे की ओर, छाती को इस तरह से नीचे करें कि वह जांघों पर टिकी हो।
  • आप इस तरह से आगे झुकेंगे कि नाभि अधिक से अधिक दब जाए।
  • सिर और गर्दन ऊपर रखें दृष्टि आगे रखें।
  • धीरे-धीरे श्वास लें और धीरे-धीरे सांस छोड़ें और इस स्थिति को जितना संभव हो सके बनाए रखें।
  • फिर सांस लें और अपनी सामान्य स्थिति में लौट आएं और आराम करें।
  • आप इसे शुरुआती दौड़ में 3-5 बार कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े : धनुरासन क्या है और धनुरासन के फायदे 

मंडूकासन का तरीका | Mandukasan Method

mandukasana images

  • सबसे पहले एक योग चटाई या एक आरामदायक चटाई पर आराम से बैठें।
  • इसके बाद आप व्रजासन वाले पोश्चर में बैठें।
  • कुछ गहरी-गहरी सांसे भरें ताकि आपका शरीर रिलैक्स हो जाए।
  • अब एक मुट्ठी बनाएं जिसमें आपके पैर की उंगलियां मुट्ठी के अंदर हों।
  • इसी अवस्था में 2-3 मिनट रहें।
  • अब अपनी मुठ्ठी नाभि के बीच में रखें।
  • साँस छोड़ते समय थोड़ा आगे झुकें और नाभि पर अधिक दबाव डालें।
  • अब सुनिश्चित करें कि आपकी छाती आपकी जांघों को छूती है।
  • आपकी आँखों का ध्यान सामने की ओर होना चाहिए।
  • अब लंबी सांस लें और वज्रासन में आ जाएं।
  • अब 3-5 बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।
  • इस मुद्रा को बनाते समय कुछ सांसें लें।

इसे भी पढ़े : सिर और गर्दन के कैंसर के उपचार 

Mandukasana karane ka vidaio

इसे भी पढ़े : शिलाजीत के फायदे और नुकसान 

FQA

Q : mandukasana steps and benefits हैं?

A : मंडुकासन आपको मधुमेह पाचन विकार और कब्ज से राहत देता है। यह आसन घुटने और टखने के जोड़ों के लचीलेपन और गतिशीलता में सुधार करता है। यह कंधे और पेट की मांसपेशियों को टोन करने में मदद करता है। इस आसन के नियमित अभ्यास से आपके फेफड़ों की क्षमता बढ़ती है।

Q : मांडूकसना आप कैसे करते हैं?

A : वज्रासन मुद्रा में बैठ जाएं।
अपनी बाईं हथेली पर अपनी दाहिनी हथेली रखें उन्हें नाभि पर रखें।
अब अपने पेट को अंदर की ओर दबाएं।
साँस छोड़ते और आगे की ओर मुड़ें (विधि 1 के समान) और सीधे देखते रहें।
थोड़ी देर के लिए अपनी सांस और स्थिति को पकड़ो।

Q : मंडुकासन क्या मधुमेह के लिए अच्छा है?

A : मंडुकासन (मेंढक मुद्रा) यह मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए एक आदर्श आसन है क्योंकि यह अग्न्याशय पर दबाव डालता है। और सभी अंगों के कार्य में सुधार करती है।

Q : मंडुकासन क्या हम दौरान सांस ले सकते हैं?

A : मंडुकासन श्वास जागरूकता: श्वास: ऊपरी पेट की मांसपेशियों और छाती का उपयोग करके गहरी गहरी साँसें लें। धीरे-धीरे सांस लें और गला आगे और पीछे फैलाएं। साँस छोड़ें पूरी तरह से साँस छोड़ते हुए योनि में बैठें।

Q : मांडुकसाना का निम्न में से कौन सा लाभ नहीं है?

A : यह कंधों को मजबूत बनाने में मदद करता है ‘यह mandukasana benefits नहीं है। मंडुकासन एक मेंढक मुद्रा है। यह वज्रासन में किया जाता है। यह आसन पीठ के निचले हिस्से पैरों और जांघों को मजबूत बनाता है।

Disclaimer : mandukasana Ke Fayade In Hindi - तो  फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये। 

इसे भी पढ़े : पनीर खाने के फायदे और नुकसान

Default image
Khemaraj__009
Hello दोस्तों मैं इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। मेरी वेबसाइट के जरिये से आपको और आपके परिवार के लिए Health Tips के बारे में और उनसे जुडी कुछ टिप्स आपको को हम हिंदी भाषा में देते है।
Articles: 292