हलासन क्या है | हलासन के फायदे | How To Use Halasan In Hindi

Halasan योग एक ऐसी प्राचीन पद्धति” है जो तन और मन दोनों को स्वस्थ व निरोग रखती हैं। वैसे तो ऐसे कई योगासन है। जो बीमारियों से बचाने में मददगार है। लेकिन आज हम आपको information about halasana दे ने वाले  हैं। जिससे आप हर छोटी बड़ी समस्या” का हल कर सकते हैं। 

What is Halasan

हलासन हठयोग का हिस्सा है। और जिस प्रकार yog ke labh हैं। हलासन दो शब्दों से मिलकर बना है। हल और मुद्रा। हल एक कृषि यंत्र है जो भूमि पर खेती करता है। इस आसन को करने से शरीर हल की तरह दिखाई देता है। इसलिए इसका नाम “halasana benefits in hindi” पड़ा। अंग्रेजी में इस आसन का नाम हल पोज है। वजन को नियंत्रित रखना हो या कमर को मजबूती देनी हो तो यह आसन लाभकारी हो सकता है। इतना ही नहीं हलासन के जरिए कईस्वास्थ्य” लाभ उठाए जा सकते हैं। 

हलासन के 6 फायदे | 6 Benefits of Halasan

  1. वजन को कम करने में हलासन फायदेमंद
  2. पाचन क्रिया को सुधारने फायदेमंद है
  3. हलासन करेसे डायबिटीज का दूर होना
  4. अनिद्रा के उपचार में हलासन के फायदेमंद है 
  5. ब्लड शुगर में फायदेमंद होता है 
  6. हलासन तनाव को कम करने में फायदेमंद

 1. वजन को कम करने में हलासन फायदेमंद

अगर उचित खानपान और सक्रिय जीवनशैली के साथ hal asana का अभ्यास किया जाए तो वजन घटाने के प्रयास के अच्छे परिणाम नजर आ सकते हैं। दरअसल एनसीबीआई वेबसाइट पर एक शोध है। जिसमें योगासन चीन के निवासियों से किया गया था। हलासन को भी शोध में शामिल किया गया था। शोध में शामिल आसन चयापचय को बढ़ाने वसा को कम करने और कमर की परिधि को कम करने में सफल पाए गए हैं। यहां हम स्पष्ट कर दें कि इसके परिणाम सबके शरीर के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं।

2. हलासन तनाव को कम करने में फायदेमंद

व्यस्त दिनचर्या और काम के बढ़ते दबाव के कारण तनाव का होना सामान्य है। ऐसी स्थिति में मानसिक स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए योग का सहारा लिया जा सकता है। इंस्टीट्यूट ऑन मेंटली हैंडीकैप्ड चिल्ड्रेन द्वारा किए गए अध्ययनों से पता चलता है। कि halasan से चिंता और तनाव को कुछ हद तक दूर किया जा सकता है। फिलहाल इस विषय पर और शोध की आवश्यकता है।

3. पाचन क्रिया को सुधारने फायदेमंद है

“halasana in hindi” करने से पाचन तंत्र पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। इस आसन का उपयोग कब्ज अपच और पेट की कई बीमारियों से राहत के लिए किया जा सकता है। (halasana information in hindi) की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध में भी इसकी पुष्टि की गई है। इस शोध में बच्चे ने हलासा सहित कई आसन किए। शोध के बाद यह पाया गया कि hallasan करने के बाद बच्चों की पाचन शक्ति में सुधार होता है। इस आधार पर कहा जा सकता है पाचन तंत्र के लिए halasana yoga benefits कारी हो सकता है।

4. हलासन करेसे डायबिटीज का दूर होना

डायबिटीज से ग्रस्त लोगों के लिए यह आसन किसी वरदान से कम नहीं है। जो मधुमेह के रोगियों के लिए आवश्यक है। साथ ही यह आसन ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल करने में मदद करता है।

5. अनिद्रा के उपचार में हलासन के फायदेमंद है 

अनिद्रा ऐसी बीमारी है जिसमें ठीक तरह से नींद नहीं आती है। नींद पूरी न होने से इंसान कई बीमारियों से घिर जाता है।  नींद की कमी के कारण व्यक्ति कई बीमारियों से पीड़ित है और दैनिक जीवन में इसका एक सौ प्रतिशत नहीं दे सकता है। एक शोध के अनुसार नींद के पीछे उनींदापन एक बड़ा कारण हो सकता है। और इस halasana yoga pos के माध्यम से दूर किया जा सकता है। ऐसा करने में थोड़ा फायदा है। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि हलासन तनाव और परेशानी से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। इसलिए कहा जा सकता है। कि halasana steps अनिद्रा को ठीक करने में सकारात्मक परिणाम दिखा सकते हैं।

6. ब्लड शुगर में फायदेमंद होता है

ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में भी हलासन मददगार साबित हो सकता है। हलासन अन्य तकियों के साथ द्वारा प्रकाशित शोध के अनुसार टाइप 2 मधुमेह के उपचार में सहायक भूमिका निभा सकता है। हलासन शरीर में इंसुलिन प्रक्रिया को बेहतर बनाता है और शरीर में ग्लूकोज के सामान्य स्तर को बनाए रखने में मदद कर सकता है। इसके अलावा यह टाइप 2 मधुमेह के कारण होने वाली अन्य समस्याओं से बचने में भी मदद कर सकता है। इसलिए कहा जा सकता है कि ब्लड शुगर को सामान्य रखने के लिए हलासन करने के फायदे हो सकते हैं।

इसे भी पढ़े : मानसिक तनाव के लक्षण 

हलासन कैसे करें | how to do halasana

हलासन क्या है और हलासन के फायदे | How To Use Halasan In Hindi

  • योग मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  • अपने हाथों को शरीर से सटा लें। हथेलियां जमीन की तरफ रहेंगी।
  • टांगे कमर से 90 डिग्री का कोण बनाएंगी। दबाव पेट की मांसपेशियों पर रहेगा।
  • हाथों को कमर से हटाकर जमीन पर सीधा रख लें। हथेली नीचे की तरफ रहेगी।
  • करें सांस छोड़ते हुए, टांगों को वापस जमीन पर ले आएं।
  • बाजुओं को कमर से हटाकर सीधे जमीन पर रखें। हथेली नीचे की ओर होनी चाहिए।
  • कमर जमीन के समानांतर होगी।
  • आसन को छोड़ते हुए जल्दबाजी न करें। टांगों को एक समान गति से ही सामान्य स्थिति में वापस लेकर आएं।

इसे भी पढ़े : मेथी के फायदे और नुकसान 

हलासन का करने तरीका | Halasan way of doing

हलासन क्या है और हलासन के फायदे | How To Use Halasan In Hindi

  • अब इस मैट पर पीठ के बल सीधे लेट जाएं।
  • सबसे पहले स्वच्छ वातावरण में समतल जगह पर एक योग मैट बिछा लें।
  • अपने हाथों को शरीर के पास रखें। हथेलियों की दिशा जमीन की ओर होनी चाहिए।
  • अब सांस लें और पैरों को 90 डिग्री तक ऊपर उठाएं।
  • यदि आपको पैर उठाने में कठिनाई होती है  तो आप अपने हाथों से कमर को सहारा दे सकते हैं।
  • अब सांस छोड़ते हुए टांगों को सीधा रखते हुए धीरे-धीरे सिर के ऊपर से पीछे की ओर ले जाएं।
  • फिर पैर के अंगूठों से जमीन को स्पर्श करने का प्रयास करें।
  • अब हाथ को कमर से हटाकर सीधे जमीन पर रखें।
  • इस मुद्रा में यथासंभव रहने की कोशिश करें और सामान्य गति से सांस लेते रहें।
  • अब सांस लेते हुए धीरे-धीरे प्रारंभिक स्थिति में लौट आएं।
  • इस योगासन को आप अपनी क्षमता के अनुसार तीन से पांच बार कर सकते हैं।

कि पहली बार hal asana करने वाले लोगों को किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

इसे भी पढ़े : अलसी क्या है | अलसी के बीज के फायदे 

हलासन की विधि | Halasan’s method

यहां पर hallasan के आसान एवं सरल विधि के बारे में बताया गया है। इसे समझकर आप इस मुद्रा में न केवल ठीक से benefits of halasana yoga  उठा सकते हैं बल्कि ज़्यदा से ज़्यदा इसका लाभ उठा सकते हैं।

  • पीठ के बल लेट जाएं और हाथों को जांघों के निकट टिका लें।
  • अब आप धीरे-धीरे अपने पांवों को मोड़े बगैर पहले 30 डिग्री पर फिर 60 डिग्री पर और उसके बाद 90 डिग्री पर उठाएं।
  • साँस छोड़ते समय पीछे को उठाते हुए सिर के पिछले पैर को पीछे ले जाएँ और पंजों को ज़मीन से स्पर्श करें।
  • अब योग पाखंड हँसी का रूप ले चुका है।
  • धीरे-धीरे सांस लें और धीरे-धीरे सांस छोड़ें।
  • जहां तक ​​हो सके इस आसन को पहनें।
  • फिर धीरे-धीरे मूल स्थिति में लौट आएं।
  • इस तरह से आप 3 से 5 चक्र कर सकते हैं।

Halasan Ka video

इसे भी पढ़े : शवासन क्या है | शवासन के फायदे 

FAQ 

Q : हलासन कैसे करते है?

A : योग मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
अपने हाथों को शरीर के पास रखें।
सांस अंदर लें पैरों को ऊपर की ओर उठाएं।
टांगे कमर से 90 डिग्री का कोण बनाएंगी।
टांगों को उठाते समय अपने हाथों से कमर को सहारा दें।

Q : हलासन करने की सावधानियां क्या हैं?

A : halasana for beginners का अभ्यास करने से बचें यदि आप इस स्थिति से पीड़ित हैं। स्लिप्ड डिस्क पीठ या गर्दन में गंभीर दर्द या चोट हर्निया कटिस्नायुशूल बढ़े हुए थायरॉयड प्लीहा या यकृत ग्रीवा की समस्याएं हृदय की स्थिति या लगातार सिरदर्द। गर्भावस्था के दौरान और मासिक धर्म के दौरान हलासन का अभ्यास नहीं करना चाहिए। 

Q : हलासन मुश्किल है?

A : हलासन या हल का पोज़ थोड़ा मुश्किल लग सकता है। लेकिन आपके मस्तिष्क को शांत करने और आपकी पीठ के लिए चिकित्सीय के साथ सुपर प्रभावी है। उल्टे पोज़ के लिए आपको अपने हाथों को ज़मीन पर रखने, अपने पैरों को उठाने और उन्हें अपने सिर के ठीक पीछे रखने की आवश्यकता होगी।

Q : हलासन से शरीर के किस अंग को फायदा होता है?

A : मांसपेशियाँ पैर की मांसपेशियाँ, पीठ की मांसपेशियाँ,पेट की मांसपेशियाँ,हैमस्ट्रिंग की मांसपेशियाँ,गर्दन आदि। यह मुद्रा लगभग पूरे शरीर की मांसपेशियों पर होती है जो पैर की उंगलियों से लेकर ग्रीवा तक होती है। लचीलापन: रीढ़, गर्दन,कंधे,पैर और कूल्हे

Q : हलासन का मतलब क्या है?

A : हलासन (Sanskrit हलासन IAST halāsana) या हल मुद्रा एक हठ योग और व्यायाम के रूप में आधुनिक योग में एक उल्टा आसन है। इसके रूपांतरों में कर्णपिडासन को घुटनों से और कानों में सुपना कोनसना के साथ पैरों को अलग किया गया है।

Q : हलासन के बाद कौन सा आसन करना चाहिए?

A : आसनों के क्रम में, हलासन आमतौर पर सर्वांगासन के बाद किया जाता है, जो मूल रूप से एक कंधे का स्टैंड है।

Disclaimer : How To Use Halasan In Hindi – तो  फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये। 

इसे भी पढ़े : लोमोफेन क्या है | लोमोफेन कैसे काम करता है

Related Posts