भारद्वाजासन क्‍या है | भारद्वाजासन के फायदे | How To Use Bharadvajasana

Bharadvajasana in hindi : भारद्वाजसन एक बैठा हुआ स्पाइनल ट्विस्ट है जो पीठ पर राहत देने और पुनर्जीवित करने वाली क्रियाओं के लिए जाना जाता है। भारद्वाजसन एक संयोजन मुद्रा है जिसे रीढ़ को निचोड़कर दो तरह से किया जाता है।

यह पैरों को घुटने से मोड़कर और पैरों को दाहिने कूल्हे के पास लाकर किया जाता है। दाहिने हाथ को बाएँ घुटने के नीचे रखने के लिए फैला हुआ है और हथेली फर्श को छू रही है। दाहिने हाथ को बाएं हाथ से दाहिने ऊपरी बांह को पकड़ने के लिए पीठ के चारों ओर लपेटा जाता है।

भारद्वाजासन क्‍या है | What Is Bharadvajasana

भारद्वाजासन बहुत ही सरल योग मुदा औ में से ऐक है जिसे अंग्रेजी में बैठा मोड़ मुद्रा के रूप में जाना जाता है। प्राचीन भारतीय इतियास और कथावो और अनुसार भारद्वाजासननाम संस्कूत शब्द भारद्वाजासन से लिटा गया है। इस लिए मुद्रा को भारद्वाजासन नाम दिया गया है। जो सात महान और वेदो के रचेपिता में से ऐक थे।

भारद्वाजासन कैसे करे | How to do Bharadvajasana

भारद्वाजासन क्‍या है | भारद्वाजासन के फायदे | How To Use Bharadvajasana
  • सबसे पहले जमीन पर एक योगा मैट बिछाकर उस पर बैठ जाएं।
  • अब अपने दोनों घुटनों को मोड़ें और अपनी रीढ़ को सीधा रखें।
  • अपने घुटनों को इस तरह मोड़ें कि आपके शरीर का पूरा भार दाहिने कूल्हे पर पड़े।
  • दोनों पैर एक ही दिशा में होने चाहिए।
  • आपका सिर भी उसी दिशा में होना चाहिए जिसमें आपके पैर हैं।
  • और आपके हाथ विपरीत दिशा में होने चाहिए जैसा कि चित्र में दिखाया गया है।
  • अब इस पोजीशन में करीब 30 से 40 सेकेंड तक रहें।
  • आप अपनी क्षमता के अनुसार अपना समय भी निर्धारित कर सकते हैं।
  • अब पुरानी पोजीशन में आने के लिए सबसे पहले अपने सिर को सामने लाएं।
  • इसके बाद अपने हाथों को जमीन पर रखें और फिर मुड़े हुए घुटनों को सीधा कर लें।
  • इस दौरान गहरी लंबी सांसें लेते रहें।

भारद्वाजासन करने का तरीका | Bharadvajasana karane ka tareeka

भारद्वाजासन क्‍या है | भारद्वाजासन के फायदे | How To Use Bharadvajasana
  • भारद्वाजासन करने के लिए धीरे-धीरे अभ्यास बढ़ाएं।
  • बेचैनी होने पर इस आसन का अभ्यास न करें।
  • कंधों या घुटनों पर कभी भी जोर न लगाएं।
  • सुनिश्चित करें कि आप गर्म हैं और आपकी कोर मांसपेशियां सक्रिय हैं।
  • अगर आप बेचैनी या दर्द महसूस करते हैं तो अपने ऊपर कोई दबाव न डालें।
  • धीरे-धीरे आसन का अभ्यास बंद कर दें और आराम करें।
  • पहली बार किसी योग्य योग गुरु की देखरेख में आसन का अभ्यास करें।

भारद्वाजासन के फायदे | Benefits of Bharadvajasana

  1. रीढ़ के लचीलेपन में सुधारा लाने में
  2. पैर की मांसपेशियों के लिए फायदेमंद है
  3. पेट की मांसपेशियों को उत्तेजित करने में
  4. प्रजनन अंगों की दक्षता में सुधार करता है
  5. पाचन तंत्र के लिए
  6. जड़ और हृदय चक्र को सक्रिय करता है

1. रीढ़ के लचीलेपन में सुधारा लाने में

आधुनिक जीवनशैली आमतौर पर हमें अपने काम के अधिकांश घंटे बैठने की मुद्रा में बिताने के लिए मजबूर करती है। इससे रीढ़ की हड्डी का प्राकृतिक आकार और संरचना बिगड़ जाती है। इस प्रकार भारद्वाज के मोड़ का ऐसा पार्श्व खिंचाव पीठ की मांसपेशियों को फिर से जीवंत करने और लचीलेपन को बढ़ाने के लिए आवश्यक है।

2. पैर की मांसपेशियों के लिए फायदेमंद है

इस मुद्रा में पैरों को मोड़कर रखा जाता है जिससे हैमस्ट्रिंग पिंडलियों और घुटनों में खिंचाव होता है जिससे रक्त प्रवाह में सुधार होता है। इसलिए यह इन मांसपेशियों का विस्तार करता है और पैर की मांसपेशियों को मजबूत करता है।

3. पेट की मांसपेशियों को उत्तेजित करने में

मुद्रा के पार्श्व घुमाव से कोर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। यह पेट की मांसपेशियों को फैलाता है और पेट को टोन करता है। तिरछी मांसपेशियां फैल जाती हैं और मजबूत हो जाती हैं। यह आंतरिक अंगों की भी मालिश करता है जिससे पाचन में सुधार होता है।

4. प्रजनन अंगों की दक्षता में सुधार करता है

इस मुद्रा को करने में पेट के निचले हिस्से को मोड़ना शामिल है। यह प्रजनन अंगों को निचोड़ता है और रक्त की आपूर्ति को बढ़ाता है। यह हार्मोनल स्राव का अनुकूलन करता है।

5. पाचन तंत्र के लिए

भारद्वाजासन छाती और कंधों को खोलकर किया जाता है। यह फेफड़ों की मात्रा को बढ़ाता है और ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाता है। यह सांस लेने की क्षमता को बढ़ाता है जिससे श्वसन प्रणाली में सुधार होता है।

6. जड़ और हृदय चक्र को सक्रिय करता है

भारद्वाजासन में शामिल मोड़ दिल को खोलता है इस प्रकार अनाहत चक्र को सक्रिय करता है। इससे आत्म-स्वीकृति और प्रेम जैसी सकारात्मक भावनाएँ आती हैं। इसके साथ ही मुद्रा बेहतर ग्राउंडिंग और स्थिरता देती है इसलिए मूलाधार चक्र को उत्तेजित करती है।

भारद्वाजासन की विघि | Method of Bharadvajasana

भारद्वाजासन क्‍या है | भारद्वाजासन के फायदे | How To Use Bharadvajasana
  • योग मैट पर सुखासन में बैठ जाएं।
  • दोनों पैरों को आगे की ओर फैलाएं।
  • दोनों हाथों को कूल्हों के पास रखें।
  • घुटनों को मोड़ें और उन्हें अपने बाएं कूल्हे के करीब लाएं।
  • शरीर का भार दाहिने नितंब पर होगा।
  • बाएं पैर के अंदरूनी हिस्से को दाहिनी जांघ की लिफ्ट पर रखें।
  • गहरा श्वास लें और अपनी स्पाइन को स्ट्रेच करें।
  • श्वास लेते हुए जितना हो सके ऊपरी धड़ को घुमाएं।
  • सांस छोड़ते और धीरे से वापसी शुरू करें।
  • वापस आने के लिए अपने धड़ को सीधा करें।
  • गहरी सांस लें और यही क्रिया अब बाएं नितंब के साथ दोहराएं।

भारद्वाजासन कदम | bharadvajasana steps

  • पैरों को पीछे की ओर लाने के लिए घुटनों को मोड़ें और घुटनों को फर्श पर टिकाएं।
  • अपने पैरों को दाहिने कूल्हे के बगल में दायीं ओर ले आएं और नितंबों को फर्श पर टिका दें।
  • पैरों की स्थिति ऐसी होती है कि दाहिना भीतरी टखना बाएं पैर के आर्च में होता है।
  • बाएं घुटने के पास बाईं जांघ के बाहर दाहिने हाथ को फैलाते हुए धड़ को 45 डिग्री पर बाईं ओर मोड़ें।
  • दाहिने हाथ को बाएं घुटने के नीचे डालें और उंगलियों को दायीं ओर इंगित करें और हथेली फर्श को छूएं।
  • साँस छोड़ते हुए बाएँ कंधे को घुमाते हुए बाएँ हाथ को पीठ के पीछे खींचें।
  • बायीं कोहनी को मोड़ते हुए दाहिने ऊपरी बांह को बायें हाथ से पीठ के आर-पार पकड़ें।
  • गर्दन को दाहिनी ओर मोड़ें और दाहिने कंधे को देखें।
  • 30 मिनट तक गहरी सांस लेते हुए मुड़ी हुई मुद्रा में रहें।

भारद्वाजासन की सावधानियां | precautions of Bharadvajasana

भारद्वाजासन क्‍या है | भारद्वाजासन के फायदे | How To Use Bharadvajasana
  • रीढ़ की हड्डी में दर्द होने पर ये आसन न करें।
  • गंभीर बीमारी होने पर भी इस आसन को नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपको डायरिया और अस्थमा की समस्या है तो इस आसन को न करें।
  • गर्दन में दर्द हो तो bharadvajasana नहीं करना चाहिए।
  • अगर आपको कंधे के दर्द की समस्या है तो हाथ न उठाएं।
  • यदि आपके घुटने में दर्द या गठिया है तो बस दीवार के सहारे अभ्यास करें।
  • हृदय और उच्च रक्तचाप के रोगियों को यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • शुरुआत में bharadvajasana किसी योग प्रशिक्षक की देखरेख में ही करें।
  • संतुलन बनने पर आप खुद भी ये आसन कर सकते हैं।
  • भारद्वाजासन का अभ्यास शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

भारद्वाजासन का वीडियो | Bharadvajasana Ka video

FAQ

Q : भारद्वाजासन कौन सी मुद्रा है?

A : भारद्वाजासन के लिए छवि परिणाम सात महान हिंदू संतों में से एक के नाम पर भारद्वाजासन योग की अयंगर और अष्टांग शैलियों में दिखने वाला एक बैठा हुआ मोड़ है। भारद्वाज संस्कृत से अनुवाद करते हैं जिसका अर्थ है पोषण लाना- और उपयुक्त रूप से समर्पित मुद्रा को रीढ़ और आंतरिक अंगों के लिए पौष्टिक माना जाता है।

Q : कैसे करें भारद्वाज का ट्विस्ट?

A : बैठने की स्थिति से अपने घुटनों को दाईं ओर मोड़ें और अपने पैरों को बाईं ओर ले जाएँ – ताकि आपका बायाँ टखना आपके दाहिने पैर के आर्च में आराम कर सके। श्वास लेते समय रीढ़ की हड्डी को लंबा करने के लिए बैठी हुई हड्डियों को चटाई से दबाएं।

Q : bharadvajasana benefits?

A : रीढ़ कंधों और कूल्हों को फैलाता है।
1. पेट के अंगों की मालिश करता है।
2. तनाव दूर करने में मदद करता है।
3. पीठ के निचले हिस्से को मजबूत करने के लिए गर्भावस्था के दूसरे तिमाही में विशेष रूप से अच्छा है।
4. कार्पल टनल सिंड्रोम के लिए चिकित्सीय।

Disclaimer :  How To Use Bharadvajasana In Hindi – तो  फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये। 
इसे भी पढ़े : 
Default image
Khemaraj__009
Hello दोस्तों मैं इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। मेरी वेबसाइट के जरिये से आपको और आपके परिवार के लिए Health Tips के बारे में और उनसे जुडी कुछ टिप्स आपको को हम हिंदी भाषा में देते है।
Articles: 292