पवनमुक्तासन क्या हैं | पवनमुक्तासन के लाभ | How To Pawanmuktasana

आपने कई योगासनों के बारे में सुना होगा जिनमें से एक pawanmuktasana है। जो पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करता है। जो शरीर से हानिकारक गैस को हटाने में मदद करता है। पवनमुक्तासन को अंग्रेजी में विंड रिलीजिंग पोज व गैस रिलीजिंग पोज़ के नाम से जाना जाता है।

यह सरलता उन लोगों के लिए बेहतर है। जिन्हें पचाने में कठिनाई होती है। इसके अलावा पवनमुक्तासन के कई स्वास्थ्य लाभ हैं जैसे कि आंत्र संबंधी समस्याओं में सुधार , पीठ दर्द से राहत , वसा कम करना और मानसिक लाभ प्रदान करना है। बहुत से लोग पवनमुक्तासन के बारे में ज्यादा नहीं जानते होंगे। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है।

पवनमुक्तासन क्या हैं | Pawanmuktasana in hindi

pawanmuktasana images
pawanmuktasana images

pawanmuktasana संस्कृत शब्द से आता है जैसे पावन अर्थ पवन, मुक्ता अर्थ राहत या मुक्ता, सरल अर्थ योगमुद्रा। पवनमुक्तासन को गैस रिलीज pawanmuktasana pose में अंग्रेजी में कहा जाता है। यह सरल पाचन तंत्र को मजबूत करने में बहुत फायदेमंद है। इसके अलावा यह निम्नलिखित स्वास्थ्य समस्याओं में से कुछ उपचार में मदद करता है। आइए हम आपको इस आसन को करने के तरीके दिखाते हैं।

इसे भी पढ़े : – फोलिहेयर टैबलेट क्या है

पवनमुक्तासन के फायदे | Benefits Of Pawanmuktasana

pawanmuktasana benefits आसन आमतौर पर पेट की वायु को बाहर निकालने के लिए किया जाता है। इसके साथ ही शरीर के अंदर जमा अशुद्धियों को बाहर करने में भी पवनमुक्तासन आसन बहुत फायदेमंद है। इसके अलावा pawanmuktasana steps and benefits हैं, तो आइए जानते हैं कि पवनमुक्तासन आसन को करने के क्या फायदे हैं।

पेट के लिए फायदेमंद | Beneficial for stomach

पवनमुक्तासन आसन को करने से पेट और अन्य इंद्रियों की मालिश होती है। यह आसन पेट से हवा निकालता है और पाचन क्रिया को बनाए रखता है। जिससे आपको पेट फूलना, एसिडिटी और कब्ज जैसी समस्याओं से बचाता है।

पेट की चर्बी घटाए | Lose belly fat

अगर आप बैली फैट कम करना चाहते हैं तो इससे बेहतर ऑप्शन कोई और नहीं हो सकता है। दरअसल इस से पेट की मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है। जिससे बैली फैट तेजी से कम होता है।

दिल के लिए फायदेमंद | Beneficial for heart

यह आसन ब्लड परिसंचरण को बढ़ाता है और रक्त को थक्के बनने से भी रोकता है। कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी नियंत्रण में रहता है। जिससे आप दिल रोग से बच सकते हैं।

वजन कम करने के लिए | to lose weight

जैसा कि आप जानते हैं। व्यायाम और yoga pawanmuktasana करना शरीर के वजन को संतुलित करता है। पवनमुक्तासन शरीर से हानिकारक गैस को निकालता है और पाचन को मजबूत करता है। इसके अलावा यह शरीर के वजन को कम करने में मदद करता है। जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं उन्हें पावनमुक्तासन करना चाहिए।

महिलाओं के लिए | For ladies

पवनमुक्तासन आसन है जिसका अभ्यास हर महिला को करना चाहिए। यह उनके स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। विशेष रूप से अगर आप गर्भाशय की समस्या से परेशान हैं तो आपको पवनमुक्तासन आसन का अभ्यास करने की सलाह दी जाती है। पवनमुक्तासन आसन गर्भाशय से जुड़ी बीमारियों को दूर करने में मदद कर सकता है। यह आपकी प्रजनन क्षमता को भी बेहतर बनाता है।

एसिडिटी को कम करने के लिए | To reduce acidity

pawanmuktasana आसन का मुख्य कार्य शरीर से हानिकारक गैस विषाक्त पदार्थों को निकालना है, इसलिए पवनमुक्तासन आसन का नाम पावनमुक्तासन है। इसलिए पवनमुक्तासन आसन का अभ्यास करने से एसिडिटी की समस्या से छुटकारा मिलता है।

तनाव से राहत | Stress Relief

pawanmuktasana भी साइनटिका, गठिया जैसी समस्याओं में फायदेमंद है। साथ ही इस आसन को रोज करने से आप आराम महसूस करते हैं। और तनाव का खतरा कम हो जाता है।

गैस की समस्या को दूर करें | Overcome the gas problem

पवनमुक्तासन को गैस विमोचन मुद्रा भी कहा जाता है। क्योंकि यह शरीर से गैस को बाहर निकाल ने में मदद करता है। यह सरल पाचन शक्ति को मजबूत करके पाचन स्वास्थ्य में सुधार करता है। यह सरल उन लोगों के लिए फायदेमंद है जिन्हें अधिक गैस की समस्या है। यदि आप गैस की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो दैनिक वेंटिलेशन करने का प्रयास करें।

कब्ज दूर करने के लिए | To relieve constipation

पवनमुक्तासन पाचन शक्ति को मजबूत करता है और पाचन की सुविधा देता है। अच्छे पाचन के कारण कब्ज की समस्या दूर होने लगती है।

पीठ दर्द से राहत | Back pain relief

पवनमुक्तासन उन लोगों के लिए एक अच्छा योग मुद्रा है जिन्हें पीठ दर्द जैसी समस्या है। ऐसा करने से व्यक्ति को कमर दर्द और जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है। यही कारण है कि ऐसा करने से छाती और घुटनों पर आसानी से दबाव पड़ता है। इसके अलावा रीढ़ की हड्डियों की भी मालिश की जाती है।

इसे भी पढ़े : – मंडूकासन क्या है और मंडूकासन के फायदे

पवनमुक्तासन करने का सही तरीका | Pawanmuktasana Steps

pawanmuktasana करने के लिए थोड़ा अभ्यास करना पड़ता है। आइए आपको पावनमुक्तासन करने का एक आसान तरीका बताते हैं।

  • पावनमुक्तासन करने के लिए योगा मैट को एक शांत जगह पर रखें।
  • अब अपनी योगा मैट पर अपनी पीठ के बल सीधा लेट जाएं।
  • श्वास लें और अपने पैरों को 90 डिग्री तक ऊपर उठाएं।
  • साँस छोड़ें, अपने पैरों को मोड़ें और अपने घुटनों को अपनी छाती तक लाने की कोशिश करें।
  • अपनी उंगलियों को मोड़ें और अपने घुटनों को पकड़ें।
  • अपने सिर को उठाएं और अपने माथे को अपने घुटनों से स्पर्श करें।
  • आसन बनाए रखते हुए सामान्य रूप से सांस लें।
  • अपने सिर को पहले नीचे लाएं और फिर अपने पैरों को।
  • अब सामान्य स्थिति में लौटें और 2 से 3 राउंड करें।

पवनमुक्तासन किसे नहीं करना चाहिए | Who should not do Pawanmuktasan

निम्नलिखित कुछ स्थितियों में पवनमुक्तासन नहीं किया जाना चाहिए।

  • जिन लोगों को उच्च रक्तचाप की समस्या है, उन्हें पवन मुक्तासन नहीं करना चाहिए।
  • मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को पावनमुक्तासन नहीं करना चाहिए।
  • पवनमुक्तासन गर्भावस्था के तीसरे तिमाही में नहीं किया जाना चाहिए
  • बल्कि आपको कोई भी योग करने से पहले  योग प्रशिक्षक से परामर्श करना चाहिए।
  • यदि किसी व्यक्ति को पीठ या गले में समस्या है तो पवनमुक्तासन नहीं करना चाहिए।
  • स्लिप डिस्क की समस्या होने पर विंड रिलीज से बचना चाहिए।
  • बवासीर, हर्निया या पेट की सूजन जैसी समस्याओं के मामले में, हवा की रिहाई नहीं की जानी चाहिए।
  • यदि हृदय से संबंधित कोई समस्या है तो पवनमुक्तासन नहीं करना चाहिए।

इसे भी पढ़े : – वृक्षासन क्या है और वृक्षासन के फायदे

पवनमुक्तासन करने की विधि | Method of pawanmuktasana

इस आसन का अभ्यास तीन चरणों में किया जाता है।

  • पहले चरण में, अपनी पीठ पर अपने पैरों को सीधा करके लेटें। फिर अपने दाहिने घुटने को मोड़ें, पेट को दबाएं और पैर को अपने हाथ से पकड़ें। साँस छोड़ते समय, अपने सिर को ऊपर की ओर उठाएं और जितना संभव हो सके अपनी ठुड्डी से अपने घुटनों को छुएं। श्वास लें, अपने पैरों को सीधा फैलाएं।
    दूसरे चरण में, प्रक्रिया को उसके बाएं पैर से किया जाना है।
    तीसरे चरण में, आपको अपने पैरों को अपने घुटनों के बीच रखते हुए दोनों पैरों से दबाना होगा।
    उपरोक्त तीन चरण एक वृत्त बनाते हैं। इसका अभ्यास तीन या चार राउंड में करना चाहिए।

पवनमुक्तासन कैसे करें |  how to do pawanmuktasana

images of pawanmuktasana

  • सबसे पहले अपनी पीठ के बल लेट जाएं।
  • दोनों पैरों को फैलाएं और उनके बीच की दूरी को कम करें।
  • अब दाहिना पैर उठाएं और घुटने पर मोड़ें।
  • दोनों हाथों को एक साथ बांधें और घुटनों को पकड़ें।
  • साँस छोड़ें और अपनी सांस रोकें।
  • धीरे से घुटनों को दबाएं और उन्हें छाती तक लाएं।
  • सांस छोड़ते हुए, सिर को उठाएं और घुटनों को छाती के पास लाएं ताकि नाक घुटनों को छुए।
  • जब तक संभव हो इस मुद्रा को बनाए रखें।
  • सांस छोड़ते हुए सिर और पैरों को वापस जमीन पर ले आएं।
  • बाएं पैर के साथ भी यही क्रिया दोहराएं।
  • यह एक चक्र था।
  • इस तरह आप 3 से 5 चक्र करते हैं।
  • इस इकाई को पवनमुक्तासन या सुपावत पवनमुक्तासन कहा जाएगा।

पवनमुक्तासन भाग 1 | Pawanmuktasan Part 1

pawanmuktasana एक योग है और यह तीन शब्दों पावन + मुक्ता + आसन = पावन मुक्तसना से बना है जिसमें पावन = वायु, मुक्ता = मोचन और आसन = मुद्रा अर्थात् इस योग की क्रिया से दूषित वायु शरीर से निकलती है। इसीलिए इसे पवन मुक्तासन योग कहा जाता है। यह आसन पीठ के बल लेटकर किया जाता है। और अंग्रेजी में इसे गैस रिलीज पोज भी कहा जाता है। आइए जानते हैं इसके फायदे और इसे कैसे करें।

इसे भी पढ़े : – धनुरासन क्या है और धनुरासन के फायदे 

Pawanmuktasana Video |

FQA 

Q : पवनमुक्तासन का अर्थ क्या है?

A : पवनमुक्तासन को अंग्रेजी में vind rileeving poj ke नाम से जाना जाता है। संस्कृत का पवनमुक्तासन नाम संस्कृत के तीन शब्दों पवन + मुक्ता + आसन से बना है जहाँ पवन का अर्थ पवन है, मुक्ता का अर्थ है विमोचन और आसन का अर्थ है आसन।

Q : पवनमुक्तासन के मतभेद क्या हैं?

A : मतभेद। उच्च रक्तचाप, स्लिप डिस्क, हर्निया या रीढ़ की हड्डी में चोट वाले लोगों को इस मुद्रा से बचना चाहिए। साथ ही, टेस्टिकल डिसऑर्डर वाले पुरुष या जो महिलाएं गर्भवती हैं या मासिक धर्म है, उन्हें भी इस मुद्रा से बचना चाहिए।

Q : पवनमुक्तासन का क्या लाभ है?

A : यह पेट की मांसपेशियों को मजबूत करता है और पेट की चर्बी कम करता है। यह आंतों और पेट के अन्य अंगों की मालिश करता है। यह हाथ, पैर और नितंबों को टोन करता है। इससे वजन कम होता है

Q : पवनमुक्तासन श्रृंखला क्या है?

A : पवनमुक्तासन श्रृंखला सत्यानंद परंपरा में योग की पहली कड़ी है। पवनमुक्तासन अनुक्रम शरीर और मस्तिष्क की छूट का समर्थन करता है और प्राकृतिक चिकित्सा प्रक्रियाओं को उत्तेजित करता है। अधिकांश अन्य आधुनिक आसन प्रथाओं के विपरीत, इसका उद्देश्य मुख्य रूप से लचीलापन विकसित करना या ताकत बनाना नहीं है।

Q : क्या हम पवनमुक्तासन के दौरान सांस ले सकते हैं?

A : घुटनों को दोनों भुजाओं से सटाएँ, हाथों को कोहनी के विपरीत रखें। गर्दन को मोड़ें और ठुड्डी को घुटनों पर रखें। सामान्य रूप से सांस लेते हुए आसन को जारी रखें।

इसे भी पढ़े : –  सिर और गर्दन के कैंसर के उपचार 

Disclaimer : Benefits of Pawanmuktasana - तो  फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये

Default image
Khemaraj__009
Hello दोस्तों मैं इस ब्लॉग का Founder और Writer हूँ। मेरी वेबसाइट के जरिये से आपको और आपके परिवार के लिए Health Tips के बारे में और उनसे जुडी कुछ टिप्स आपको को हम हिंदी भाषा में देते है।
Articles: 292