बैगन क्या है | बैगन के फायदे | Brinjal Ke Fayde Aur Upyog In Hindi

0
325

Brinjal Ke Fayde In Hindi : बैगन का अधिकांश लोगों का बैंगन की सब्जी का स्वाद पसंद नहीं आता है। वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं। जिनका मानना है कि बैंगन से सेहत को कोई फायदा नहीं होता है। जबकि ऐसा नहीं है कि बैंगन हमारी सेहत के लिए बहुत अच्छा है। यह पेट की बीमारियों से लेकर उपचार में लाभ बवासीर जैसी गंभीर बीमारी के लिए फायदेमद है।

बैगन क्या है | What Is Brinjal

बैंगन का उपयोग मुख्य रूप से सब्जी के रूप में किया जाता है और देश के कई हिस्सों में इसकी खेती की जाती है। बैंगन के पौधे लगभग 60-100 सेंटीमीटर ऊंचे होते हैं। और इसके फल गहरे बैगनी सफ़ेद या पीले रंग के लंबे अंडाकार आकार में होते हैं।

बैगन के 5 फायदे | 5 Benefits Of Brinjal | brinjal ke fayde hindi me

  1. डायबिटीज के लिए
  2. हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमद है
  3. पाचन में करता है सुधार
  4. वजन घटाने में फायदेमद है
  5. कैंसर के लिए फायदेमद है

1. डायबिटीज के लिए

डायबिटीज की समस्या में बैंगन का उपयोग लाभकारी माना जा सकता है। कारण यह है कि इसमें पाए जाने वाले फेनोलिक्स (कार्बोलिक एसिड) टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को कम कर सकते हैं। दूसरी ओर फेनोलिक एंटीऑक्सीडेंट गुणों को ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करके हाइपरग्लेसेमिया उच्च रक्त शर्करा के प्रभाव को कम करने में मदद करने के लिए माना जाता है। इस कारण यह कहा जा सकता है। कि brinjal ke fayde में ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित करना भी शामिल है।

2. हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमद है

विशेषज्ञों के मुताबिक बैंगन में विटामिन-ए विटामिन-सी के साथ बी कैरोटीन और पॉलीफेनोलिक यौगिक भी होते हैं। बैंगन में इन तत्वों की मौजूदगी का कार्डियो प्रोटेक्टिव इफेक्ट होता है। इसे हृदय स्वास्थ्य के लिए एक उत्तम विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

3. पाचन में करता है सुधार

पाचन तंत्र को सुधारने में बैंगन खाने के फायदे काफी मददगार साबित हो सकते हैं। इस संबंध में कई खाद्य पदार्थों पर शोध से पता चला है।कि भाप से पकाने से बना बैंगन पाचक रसों को प्रेरित करने का काम करता है। भोजन को पचाने में पाचक रस महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए यह कहा जा सकता है कि बैंगन का उपयोग पाचन प्रक्रिया को सुधारने में सहायक साबित हो सकता है।

4. वजन घटाने में फायदेमद है

Brinjal Ke Fayde

अगर आप मोटापे की समस्या से परेशान हैं और वजन घटाने की कोशिश कर रहे हैं तो बंगाल आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगा। कारण यह है। कि 100 ग्राम बंगाल में 92 ग्राम पानी होता है। वहीं वसा की मात्रा बहुत कम होती है। बैंगन में फाइबर की मात्रा अधिक होती है। इसमें कैलोरी भी बहुत कम होती है। इस कारण यह उन लोगों के लिए एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। और पेट भरने के लिए वसा कम है। वहीं सौंफ पर हुए शोध में सीधे तौर पर पाया गया है कि इसका सेवन कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करने के साथ-साथ वजन घटाने में मददगार साबित हो सकता है। इस कारण यह कहा जा सकता है। कि बैंगन के गुण वजन घटाने में भी मददगार साबित हो सकते हैं।

5. कैंसर के लिए फायदेमद है

कैंसर की समस्या में भी brinjal ke fayde देखे जा सकते हैं। वजह यह है कि इसमें एक विशेष तत्व एंथोसायनिन होता है। विशेषज्ञों के अनुसार एंथोसायनिन कैंसर कोशिकाओं के प्रभाव को कम करने का कार्य कर सकता है। इसलिए यह कहा जा सकता है कि कैंसर की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए काफी हद तक फायदेमंद साबित हो सकता है।

बैगन का गुण | Brinjal quality

  • बैंगन कटु तिक्त मधुर brinjal ke fayde in urduलघु तीक्ष्ण स्निग्ध क्षारीय कफवातशामक है।
  • यह बुखार खांसी एनोरेक्सिया कृमि बवासीर नाराज़गी और इनहेलर है।
  • अंडों पर भुने हुए बैंगन बहुत छोटे जले हुए और सामान्य पित्ताशय वाले होते हैं।
  • भुने हुए बैंगन में तेल और नमक होता है जो खाने योग्य और मलमल होता है।
  • सफेद बैंगन दृष्टिदोष में और सेक्स से कम फायदेमंद होता है।
  • बैंगन के पके फल में क्षार गुड़ पित्ताशय और गाउट होता है।
  • बैंगन की मूल श्वासकष्टरोधी रेचक वेदनाहर एवं हृद्य होती है।
  • यह तत्रिकाशूल हृद्दौर्बल्य शोथ नासागत व्रण अजीर्ण ज्वर हृदयगत रोग।

बैगन का उपयोग | Brinjal use

Brinjal Ke Fayde

कैसे खाएं :

  • आप इसे रसेदार या सूखी सब्जी बनाकर इस्तेमाल में ला सकते हैं।
  • वहीं इसे ग्रील करके भी खाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है
  • आप चाहें तो इसका भरता बनाकर भी इसे उपयोग कर सकते हैं।

बैगन कब खाएं :

  • इसकी सूखी सब्जी दोपहर में लंच के तौर पर पराठे या रोटी के साथ उपयोग की जा सकती है।
  • वहीं रात को खाने के वक्त इसकी रसेदार सब्जी का प्रयोग रोटी या चावल के साथ किया जा सकता है।

बैगन का नुकसान | baigan ke fayde aur nuksan in hindi

बैंगन अधिक तेल सोखता है। जो वसा होता है जिसके कारण आपका वजन बढ़ सकता है। और आपके दिल को भी नुकसान हो सकता है। जो लोग बड़ी मात्रा में बंगाल का सेवन करते हैं उन्हें बवासीर होने का खतरा हो सकता है। गर्भवती महिलाओं को अधिक भोजन नहीं करना चाहिए क्योंकि यह एक प्राकृतिक मूत्रवर्धक है और भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकता है। बैंगन सब्जियों के नेटसाइड परिवार से संबंधित हैं जो आपको एलर्जी का कारण बन सकते हैं। यदि आप एंटीडिप्रेसेंट ले रहे हैं। ​तो बैंगन का सेवन नहीं करें क्योंकि यह दवाओं के असर को कम कर सकता है।

बैगन के फायदे का वीडियो | brinjal ke fayde video

FAQ

Q : क्या कटाई के बाद बैंगन मर जाता है?

A : उचित छंटाई और खिलाने के साथ बैंगन को बारहमासी के रूप में उगाया जा सकता है। हालांकि माली को फसल के अंत में गिरावट के लिए तैयार रहना चाहिए।18

Q : बैंगन का पौधा कितने समय तक चलता है?

A : पौधा 3-4 महीने बाद फल देगा। बैंगन कॉम्पैक्ट स्वावलंबी झाड़ियों के रूप में लगभग 40-90 सेंटीमीटर बढ़ते हैं। लेकिन भारी किस्मों को समर्थन की आवश्यकता हो सकती है। बैंगन के पौधे के रोग टमाटर की तरह बैंगन सोलानेसी परिवार का हिस्सा हैं। और मिट्टी जनित रोग वर्टिसिलियम विल्ट से ग्रस्त हैं।

Q : बीटी बैंगन पर बैन क्यों?

A : एलायंस फॉर एग्री इनोवेशन एएआई एक प्रमुख कृषि-तकनीक उद्योग निकाय ने केंद्र सरकार और विभिन्न राज्यों को बीटी बैगन के फील्ड परीक्षण की अनुमति देने के लिए लिखा है। जो आनुवंशिक रूप से संशोधित जीएम फसल है। जिसे 2010 में प्रतिबंधित कर दिया गया था। सार्वजनिक स्वास्थ्य और जैव विविधता के बारे में निम्नलिखित चिंताओं को उठाया गया।

Q : बैंगन को कितनी दूरी पर लगाया जाना चाहिए?

A : अंतरिक्ष बैंगन 18 इंच अलग पंक्तियों में 30 से 36 इंच अलग।

Q : भारत में कौन सा बैंगन प्रतिबंधित है?

A : जीईएसी ने 2009 में चर्चा के बाद फसल की व्यावसायिक खेती को मंजूरी दी थी। फरवरी 2010 में हालांकि तत्कालीन पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने जीईएसी को खारिज कर दिया और माहिको के बीटी बैगन पर दस साल की मोहलत की घोषणा की।

Q : बैगन से बैगन के बीज कैसे प्राप्त करते हैं?

A : बैंगन को काटकर खोलें और उसके गूदे को बीज से अलग कर लें। बीज को एक कटोरी पानी में डालें और गूदे को धो लें। बीजों को छान लें, उन्हें थपथपा कर सुखा लें और एक ट्रे पर फैला दें ताकि वे दो से अधिक मोटे न हों।

Q : आपको प्रति पौधा कितने खीरे मिलते हैं?

A : मुझे कितने खीरे लगाने चाहिए? प्रति पौधा १०-२० खीरे प्राप्त करने की अपेक्षा करें।

Q : मैं अपना बैंगन फल पैदा करने के लिए कैसे प्राप्त करूं?

A : सुनिश्चित करें कि आपके बैंगन को प्रति सप्ताह कम से कम दो इंच पानी मिले। मौसम विशेष रूप से गर्म होने पर उन्हें इससे अधिक की आवश्यकता होगी। बैंगन के फूल हवा से परागित होते हैं। ये पौधे काम पाने के लिए मधुमक्खियों जैसे परागण करने वाले कीड़ों पर निर्भर नहीं होते हैं।

Disclaimer : Brinjal Ke Fayde Aur Upyog इस का उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सला ले इसके बाद इसका उपयोग करे तो फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख Brinjal Ke Fayde  Aur Upyog आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये।   
इसे भी पढ़े : 

Rating: 5 out of 5.