मंजिष्ठा खाने के फायदे और उपयोग हिंदी में – Benefits Of Manjistha In Hindi

0
13
Benefits of Manjistha in Hindi
Benefits of Manjistha in Hindi

Manjistha एक ऐसी जड़ी बूटी है जिसका आयुर्वेद में तरह-तरह के बीमारियों के लिए उपचार औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है। मंजिष्ठा या manjith की जड़ों तना फलों और पत्तियों का उपयोग दवा के लिए किया जाता है। मंजिष्ठा सौन्दर्य समस्या ओं नारी संबंधी शारीरिक समस्या ओं के लिए एक उपचार के स्वरूप काम साथ-साथ तरह की बीमारियों से राहत दिलाने में भी सहायता करता है।

मंजिष्ठा क्या है 

Manjistha की बेल लंबी और चौड़ी होती है इसलिए इसका उपयोग रंग योजना और कपड़ा बनाने के काम में किया जाता है इसलिए इसे वस्त्रजनी भी कहा जाता है। आयुर्वेद के अनुसार Manjistha के फायदे कई हैं और यह एक जड़ी बूटी है जो रक्त को साफ करने और त्वचा को स्वस्थ बनाने में मदद करती है। मंजिष्ठा मीठा कड़वा गर्म पचने में भारी कफ को कम रने में मदद करता है।

यह विषाक्तता तपेदिक एडिमा योनि नेत्र रोग कान के रोग कुष्ठ रक्त के थक्के मोटापा या मधुमेह असाध्य मूत्र असंयम बुखार रक्तस्राव या बवासीर या नेफ्रोपैथी से है। इसका साग मीठा छोटा बलगम और अमाइलॉइड कामोत्तेजक होता है। manjishta का फल प्लीहा विकारों या प्लीहा रोग को ठीक करने में मदद करता है। इसकी जड़ें त्वचा के विकारों को ठीक करने में मदद करती हैं।

इसे भी पढ़े : पेट में गैस की समस्या से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय

मंजिष्ठा के फायदे

  1. छाती की सूजन से दिलाये राहत
  2. चेहरे की रौनक बढ़ाने में
  3. सूजन को कम करने में
  4. मिरगी के इलाज में
  5. कमजोरी दूर करने में
  6. दस्त के इलाज में मंजिष्ठा के लिए 
  7. बुखार से राहत दिलाये
  8. मूत्राशय या मूत्रविकार में मंजिष्ठाके लिए
  9. कामला या पीलिया में
  10. बालों के लिए

1. छाती की सूजन से दिलाये राहत

manjishtha पीसी की जड़ को छाती पर लगायें और मंजिष्ठा की जड़ को उबालकर 10-20 मिली लीटर पीने से छाती के रोग में लाभ होता है।

2. चेहरे की रौनक बढ़ाने में

अगर आपके चेहरे की सुंदरता दिन-ब-दिन कम होती जा रही है तो रोजाना manjishtha के तेल से मालिश करने से चेहरे की चमक बढ़ती है।

3. सूजन को कम करने में

अगर कोई चोट या बीमारी के कारण सूजन से परेशान हो तो manjishtha के द्वारा किया जाने वाला घरेलू उपचार बहुत ही फायदेमंद होता है (मंजिष्ठा फाइड)। मंजिष्ठा हुई जड़ को पीसकर सूजन वाले स्थान पर लगाने से सूजन कम हो जाती है।

4. मिरगी के इलाज में

इस प्रकार मिर्गी के औषधीय गुण मिर्गी के दर्द से राहत के लिए काम करते हैं। manjith की जड़ और शारीरिक तना को बनाकर 10-20 मिली लीटर (हिंदी में मंजिष्ठा में लाभ) मिर्गी मानसिक अस्थिरता अनिद्रा आदि मानसिक विकारों में लाभ होता है

5. कमजोरी दूर करने में

अगर आप किसी भी लंबी बीमारी या पोषण की कमी के कारण कमजोर मेहसूस करते हो तो इस तरह से manjistha benefits फायदेमंद है।आर्द्रक एवं दूध के साथ1-2 ग्राम नमी और दूध के साथ लेने से बीमारी के कारण होने वाली कमजोरी दूर होती है।

6. दस्त के इलाज में मंजिष्ठा के लिए 

पाचन दस्त को इसका कारण माना जाता है। इस हालत में आग धीमी हो जाती है जिसके कारण पानी के रूप में शरीर से अधिक मात्रा में मल निकलता है। Manjistha अपने हल्के पाचक और गर्म करने वाले गुणों के कारण आग को तेज करता है और पाचन को स्वस्थ बनाता है जिससे मल सामान्य रूप में आता है एक सही मात्रा शरीर से बाहर निकलती है।

7. बुखार से राहत दिलाये

Manjistha का उपयोग बुखार के लक्षणों को दूर करने के लिए भी किया जाता है क्योंकि यह स्थिति पित्त के बढ़ने के कारण हो सकती है और पाचन में भी कमजोरी होती है जिसके कारण शरीर में आम का उत्पादन होता है। मंजिष्ठा में पित्त में श्वसन की संपत्ति होती है साथ ही यह के पाचन में गहरी पाचन के कारण यह बुखार के लक्षणों पर काम करता है।

8. मूत्राशय या मूत्रविकार में मंजिष्ठा के लिए

मूत्र संबंधी बीमारी में बहुत तरह की समस्याएं आती हैं जैसे कि पेशाब करते समय दर्द या जलन रुक-रुक कर पेशाब आना मूत्र में खराबी आदि। मंजिष्ठा इस बीमारी में बहुत फायदेमंद साबित होता है। 10-20 मिली लीटर मंजिष्ठा के काढ़ा की पथरी गुर्दे की पथरी और अन्य मूत्र रोगों से राहत  देता है। इसके अलावा मंजिष्ठा की जड़ का काढ़ा 10-20 मिली लीटर पीने से मूत्र पथ के रोगों से छुटकारा मिलता है 

9. कामला या पीलिया में

अगर आपको पीलिया हुआ है और आप इसके लक्षणों से परेशान हैं तो आप इस तरह से मंजिष्ठा ले सकते हैं पीलिया रोग में 1-2 ग्राम manjistha powder को मिश्री चूर्ण में मिलाकर लेने से लाभ होता है।

10. बालों के लिए

आजकल हर कोई बच्चे से जुड़ी ऐसी समस्या ओं का सामना कर रहा है। बालों के लिए मंजिष्ठा का उपयोग बहुत फायदेमंद है। मंजिष्ठा की जड़ का काढ़ा बनाकर उससे बाल धोने से बाल पतले और पके होते हैं।

इसे भी पढ़े :  गिलोय के फायदे और उपयोग हिंदी में

मंजिष्ठा का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए

रोग के लिए मंजिष्ठा के उपयोग और आवेदन की विधि पहले ही वर्णित की जा चुकी है। यदि आप किसी विशेष बीमारी के इलाज के लिए manjishtha usesmanjishta हैं ।

  • 10-20 मिलीलीटर उबालें और
  • 1-2 ग्राम पाउडर प्राप्त किया जा सकता है।

मंजिष्ठा का उपयोग – Manjistha uses

मंजिष्ठा का उपयोग आप इन तरीकों से कर सकते हैं। 

  • पानी में उबाल कर काढ़ा तैयार करकर पिले।
  • इसका चूर्ण बनाकर भी आप सीधे खा लें।
  • manjistha powder आप भी पानी में प्राप्त कर सकते हैं।
  • मंजिष्ठा कोन्ह के मुंह में एक हैकर भी नहीं है।
  • वह यहां तक ​​कि उल्लेख कर सकते हैं  
  • इसलिए साहस बढ़ाने के लिए वह शहद के साथ वापस आ गया है।

इसे भी पढ़े : खासी के लक्षण और घरेलू इलाज

मंजिष्ठा के नुकसान

manjishtha का उपयोग आयुर्वेद में औषधि के रूप में किया जाता है। इसलिए मंजिष्ठा के नुकसान मौजूद नहीं है। नीचे हम आपको इसके कुछ संभावित नुकसान के बारे में बताएंगे। manjishta एक ऐसी जड़ी-बूटी है जिसे आप उपयोग करने में संकोच महसूस करेंगे।

  • मंजिष्ठा में रंग एजेंट (6) होते है। इसलिए यह माना जाता है
  • कि इसके सेवन से पेशाब का रंग बदल सकता है।
  • गर्भवती महिलाओं और जो लोग स्तनपान कराती हैं।
  • वे इसका सेवन लेने या चिकित्सा सलाह लेने के बाद भी नहीं लेना चाहिए।
  • तो डॉक्टर की सलाह पर ही इसे उपयोग में लाएं।

इसे भी पढ़े : आलू के फायदे और उपयोग हिंदी में

Questions

1. मंजिष्ठा किसके लिए प्रयोग किया जाता है?

मंजिष्ठा या भारतीय मैडर को सबसे अच्छी रक्त शुद्ध करने वाली जड़ी-बूटियों में से एक माना जाता है। इसका उपयोग मुख्य रूप से रक्त के प्रवाह को तोड़ने और स्थिर रक्त को निकालने के लिए किया जाता है। मंजिष्ठा जड़ी बूटी का उपयोग त्वचा पर आंतरिक और बाहरी दोनों तरह से त्वचा को गोरा करने के लिए किया जा सकता है।

2. क्या मंजिष्ठा त्वचा के लिए अच्छा है?

एंटीऑक्सिडेंट रोगाणुरोधी और विरोधी भड़काऊ गुणों के साथ शुद्ध आयुर्वेद मंजिष्ठा को एक कदम के रूप में स्वीकार करता है जिसे विभिन्न त्वचा स्थितियों के लिए जाना जाता है। अपने रक्त को शुद्ध करने वाले गुणों के कारण जो रक्त से विषाक्त पदार्थों को हटाने में मदद करता है 

3. मंजिष्ठा को अंग्रेजी में क्या कहा जाता है?

रुबिया कॉर्डिफ़ोलिया जिसे आम तौर पर सामान्य मादक या भारतीय मादक के रूप में जाना जाता है कॉफी परिवार रूबियासी में फूलों के पौधे की एक प्रजाति है। 

4. मंजिष्ठा का अंग्रेजी नाम क्या है ?

मंजिष्ठा का अंग्रेजी नाम Rubia cordifolia है।

5. मंजिष्ठा को काम करने में कितना समय लगता है?

इसे एक अंतर बनाने के लिए दो सप्ताह का समय देने के लिए कहा गया है। क्या मैं इन उत्पादों के बारे में अधिक समीक्षाओं और स्रोतों के साथ वापस रिपोर्ट करूंगा। यह मुझे अजीब तरह से लेने के परिणामस्वरूप एक मिलि-मेघा एक्लिप्टिक लसीका टॉनिक है।

Disclaimer 

Manjistha Khane Ke Fayde Aur Upyog इस का उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सला ले इसके बाद इसका उपयोग करे तो फ़्रेन्ड उम्मीद करता हु की हमारा यह लेख Manjistha Khane Ke Fayde Aur Upyog आप को जरूर पसंद आया होगा तो दोस्त इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमरे साथ जुड़े रहिये और आपके मनमे कोई भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताये।

इसे भी पढ़े : रागी खाने के फायदे और उपयोग हिंदी में