अष्टांग योग कौन-कौन से हैं – Ashtaang Yog Kaun-Kaun Se Hain In Hindi

0
26
अष्टांग योग कौन-कौन से हैं हिंदी में - Ashtaang Yog Kaun-Kaun Se Hain In Hindi
अष्टांग योग कौन-कौन से हैं हिंदी में - Ashtaang Yog Kaun-Kaun Se Hain In Hindi

नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख अष्टांग योग हिंदी में आपको अष्टांग योग के कितने अंग है या अष्टांग योग कौन-कौन से हैं तो आज के लेख में सभी जानकरी देंगे तो लेख को पूरा पढ़े।

महर्षि पतंजलि में अष्टांग योग का चित्त की वृत्तियों का निरोध” के रूप में परिभाषित किया गया है। अष्टांग योग या राजयोग के नाम से भी जाना जा सकता है। अष्टांग योग में आठ अगो में सभी प्रकार के योग का समावेश होता है। और अष्टांग योग में धर्म और दर्शन में सभी विद्याओं के साथ-साथ शारीरिक और मानसिक विज्ञान का मिश्रण है।अष्टांग योग को आठ भागों में बाँटा गया है।

अष्टांग योग कौन-कौन से हैं

  • यम (कोई भी वर्जित कार्य ना करें)
  • नियम (अनुशासन का पालन करें)
  • आसन (शरीर को निरोगी बनाना)
  • प्राणायाम (ऊर्जा के संरक्षण के लिए सांस पर नियंत्रण)
  • प्रत्याहार (इंद्रियों को उनके स्रोत की ओर मोड़ देना)
  • धारणा (धीरे-धीरे ध्यान पर पकड़ बनाना)
  • ध्यान (संपूर्ण ध्यान एक बिंदु पर लगा देना)
  • समाधि (गहन साधना या पूर्ण चिंतन)

वर्तमान में योग के तीन ही अंग प्रचलन में हैं आसन, प्राणायाम और ध्यान।

अष्टांग योग के लाभ

  • संपूर्ण स्वास्थ
  • वजन में कमी
  • चिंता से राहत
  • अंतर  की शांति

1. संपूर्ण स्वास्थ

जब आप पूरी तरह से स्वस्थ होते हैं तो आप न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक और भावनात्मक रूप से स्वस्थ होते हैं। स्वास्थ्य का अर्थ बीमारी का अभाव नहीं है। यह जीवन की गतिशीलता को दर्शाता है कि आप तने आनंद प्रेम और ऊर्जा से भरे हुए हैं।योग हमे बैठने का तरीका प्राणायाम तथा ध्यान संयुक्त रूप से सिखाता हैं। नियमित रूप से अभ्यास करने वाले को असंख्य लाभ प्राप्त होते हैं। उनमें से कुछ लाभ निम्नलिखित हैं

2. वजन में कमी

अधिकतर लोग क्या चाहते हैं योग के लाभ भी यहाँ हैं। सूर्य नमस्कार और कपालभाति प्राणायाम योग एक साथ शरीर के वजन को कम करते हैं। इसके अलावा नियमित रूप से योग करने से हमें पता चलता है कि हमें किस तरह का भोजन खाना चाहिए। इसके अलावा यह वजन को नियंत्रित करने में मदद करता है।

3. चिंता से राहत

दिन भर में कुछ मिनट का योग दिन भर की चिंताओं को दूर करता है। न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक चिंता भी दूर करदे ता है। योगासन प्राणायाम और ध्यान तनाव दूर करने के प्रभावी तरीके हैं। आप श्री योग स्तर 2 कार्यक्रम में अनुभव कर सकते हैं कि कैसे योग शरीर को तनाव और हानिकारक पदार्थों से मुक्त करता है।

4. अंतर की शांति

हम सभी शांतिपूर्ण सुंदर और प्राकृतिक स्थानों की यात्रा करना पसंद करते हैं। जब हम अपने भीतर इस शांति को महसूस करते हैं तो हम दिन के दौरान इस छोटी छुट्टी को महसूस कर सकते हैं। योग और ध्यान के साथ यह छोटी छुट्टी आपके चिंतित मन को शांत करने का सबसे अच्छा तरीका है।

इसे भी पढ़े : मंजिष्ठा खाने के फायदे और उपयोग हिंदी में

अष्टांग योग कितने प्रकार के होते हैं 

अष्टांग योग कौन-कौन से हैं हिंदी में - What are Ashtanga Yoga in Hindi

  • वृक्षासन
  • दंडासन
  •  उष्ट्रासन
  • कपालभाती
  • धनुरासन

1.वृक्षासन

वृक्षासन को खड़े होकर किया जा सकता है। तो इस आसन में दाहिने पैर को बांए पैर की जांघ पर रखते है। हाथों को ऊपर करके पार्थना की मुद्रा कर लेते है।

2. दंडासन

इस आसन को बैठकर करना चाही ऐ। इस आसन से पैर और हाथ मजबूत होते है।

 3. उष्ट्रासन

इस योग में घुटने पर बैठकर हाथों को पैर की उंगलियों पर स्पर्श करते है। में ऊंट की मुद्रा बनानी होती है। इससे पाचन शक्ति बढ़ती है।

4. कपालभाती

इस क्रिया में पेट को अंदर की और खींचते है। ध्यान की मुद्रा में बैठकर सांस को अंदर बाहर करने की क्रिया कपालभाति कहलाती है इस आसन को करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है

5. धनुरासन

इस योग की आकृति धनुष समान होती है शरीर में लचीलापन और पाचन शक्ति बढ़ने में काम करता है।

इसे भी पढ़े : योग कितने प्रकार के होते हैं हिंदी में 

अष्टांग योग कैसे करें

अष्टांगयोग का अभ्यास करने के लिए साधक को पहले इस आसन के आठ अंगों को विस्तार से समझना चाहिए और ध्यान करना चाहिए। इस योग का सार इन आठ अंगों में छिपा है। अष्टांग योग के इन भागों को समझे बिना आप योग का सही अभ्यास नहीं कर सकते।

अष्टांग योग के कितने अंग है

अष्टांग योग में शामिल आठ अंग इस प्रकार के होते हैं।

  • यम
  • नियमों
  • आसन
  • प्राणायाम
  • प्रत्याहार
  • धारणा
  • ध्यान
  • समाधि

महर्षि पतंजलि के अनुसार अष्टांग योग के अंग कर्म योग के माध्यम से समाधि प्राप्त करने का तरीका है। इन आठ अंगों में शामिल पहले तीन अंग यानी यम नियम और आसन शरीर से संबंधित हैं। अन्य तीन अंग प्राणायाम प्रत्याहार और धरना मन से संबंधित हैं। अष्टांग योग इसी समय इसमें शामिल सातवां अंग ध्यान है अष्टांग योग ध्यान में साधक को अपने स्वयं के अस्तित्व को पहचानने का अवसर मिलता है।

जो कि अष्टांग योग के पहले चरणों का अध्ययन करने के बाद ही संभव है। अंत में बात आती है समाधि की। योग में शून्य भी कहा जाता है जिसका अर्थ कुछ भी नहीं बचा है। अर्थात समाधि लेने से व्यक्ति पूर्ण अष्टांग योग को प्राप्त कर सकता है।

इसे भी पढ़े : छाती में गैस के लक्षण और उपाय हिंदी में

अष्टांग योग और व्यक्तित्व विकास

एक महत्वपूर्ण मुद्दा है व्यक्तित्व विकास जो के लिए लाभ दयाक है। योग से व्यक्तित्व विकास की शुरुआत एक ऐसी होती है। योग एक व्यक्तित्व विकास से विकसित जैसे जन्म से हो रहा है। जेकिन जब व्यक्तित्व विकास की शोरावस्था में पुनर्गठन बोहति आसान हो सकता है। तो बहुत ही यह व्यक्तित्व विकास महत्वपूर्ण लाभ दायक हो सकता है। तो इसलिए बहुत ही सामान्य व्यक्तित्व विकास की शब्द होता है। इसलिए हमारे जीवन में उपयोग किया जा सकता है। जानते है की ज्यादातर भी स्थितियों में आमतौर पर लोगो लगातर व्यक्तित्व विकास करते है।

अंतरंग योग किसे कहते हैं

  • अय नियम औ आसन प्राणायाम और प्रत्याहार सभी को बहिरंग को योग कहा जा सकता है।
  • धारणा ध्यान तो समाधि और तीनो के समूह को योग में अंतरंग योग कहा जा सकता है।
  • मन की एकाग्रता बढ़ाने के लिए यीशु आध्यात्मिक अध्ययन करने के लिए आता है। 
  • धरा भीतर की दुनिया में प्रवेश करके मन को एक जगह स्थिर करने का साधनको धारणा कहते हैं।
  • जीवन में एकाग्रता को लेकर बहुत अज्ञानता है।
  • मान लेना एक विषय पर अपने दिमाग को लंबे समय तक रखने का प्रशिक्षण है।
  •  एकाग्रता में मन और इंद्रियाँ नियंत्रण में हैं।
  • इसलिए आध्यात्मिक लक्ष्य के लिए एकाग्रता लाने के लिए पिकेटिंग बहुत उपयोगी है। 

अष्टांग योग करने का तरीका

अष्टांग योग कौन-कौन से हैं हिंदी में - What are Ashtanga Yoga in Hindi

अष्टांग योग करने के लिए इसके घटकों के साथ-साथ उनमें निहित उप-घटकों को समझना बहुत महत्वपूर्ण है तभी संपूर्ण अष्टांग योग को जीवन में शामिल किया जा सकता है। आइए अष्टांग योग सूत्र में निहित सभी घटकों और उप घटकों को के होते है।

1. नियम

यम को साधने के बाद बारी आती है यह नियमों की बारी है। इसमें शौच, संतोष, कठोरता, स्वाध्याय और ईश्वर की उपासना के पाँच उप-घटक भी हैं। अष्टांग योग के दूसरे चरण को जीवन में इन नियमों को शामिल करके पहुँचा जा सकता है। आइए हम उनके विस्तृत अर्थ को भी समझते लेते हैं।

  • स्वाध्याय- स्वाध्याय का अर्थ है मन में झांकना अर्थात् विपरीत स्थिति में होने के लिए आत्म-चेतन होना।
  • संतोष– इसका अर्थ है बिना किसी परिणाम या परिणाम की इच्छा के अपने कर्म करते रहना।
  • ईश्वरप्रणिधान – ईश्वरपरिधन का अर्थ है ईश्वर में विश्वास रखना। 
  • तप– यहाँ तप का अर्थ तपस्या नहीं है, बल्कि किसी भी परिस्थिति में पूरी ईमानदारी के साथ कर्म करना है।
  • शौच – यहाँ शौच का अर्थ है शरीर, मन, भोजन, वस्त्र और स्थान की शुद्धि।

2. आसन

वैसे तो शारीरिक विकारों को दूर करने के लिए कई योग है लेकिन अष्टांग योग में आसनों का मतलब है कि आगे बढ़ने से पहले आराम से बैठना। इसे स्थिर मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है। इस मुद्रा में कुछ देर बैठने से न केवल मन शांत होता है बल्कि यह शरीर में मूड को भी बनाए रखता है।साथ ही यह आसन आत्म-शिक्षा को गहराई से समझने की शक्ति पैदा करता है और अष्टांग योग के दूसरे नियम में शामिल और पैदा करता है।

3. प्राणायाम

प्राणायाम के अर्थ होता है की प्राणायाम में ऊर्जा यानि सास लेने की पकिया को विस्तार से देना होता है।अष्टांग योग को इसलिए अग में अपनी प्राणायाम में ऊर्जा को करने के लिए इस योगाभ्यास करता है। अनुलोम विलोम और कपालभाति कुछ ऐसी प्राणायाम योग क्रियाएं हैं। इसलिए नियमित अभ्यास करने से प्राणायाम ऊर्जा को नियंत्रित करने की क्षमता होती है।

इसे भी पढ़े : पेट में गैस की समस्या से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय

FQA

1. अष्टांग योग की क्या उपयोगिता है?

योग करकर दुनिया के सभी लोगो सुख और शांति पाना चाहते है। और दुनिया में किसान को कुछ भी कर सकते है। इसलिए उसका मुख्य एकमात्र लक्ष्य उनसे सुख प्राप्त कर सकते है। केवल व्यक्ति ही नहीं बल्कि कोई भी राष्ट्र या यहां तक ​​कि दुनिया का पूरा देश इस बात से सहमत है। की शांति स्थापित होनी चाहिए।

2. अष्टांग योग का चौथा अंक कौन सा है?

योग का चौथा अंग — प्राणायाम है।

3. यम के अंतर्गत के विचार आते हैं?

2/30 यानी अहिंसा, सत्य, अस्तेय, ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह ये पांच यम हैं। ये महावत तब किया जाता है। जब वे जानते है की जाती देश को काल और सिमा समय में बंधे नहीं हो सकते है। यम योग में अंतर्गत से विचार आते है।

4. योग और प्राणायाम में क्या अंतर है?

योग में योगिक शरीर व्यायाम (आसन) शामिल हैं जबकि प्राणायाम में श्वास के विनियमन पर सचेत और जानबूझकर नियंत्रण शामिल है।

5. अनुलोम विलोम कब नहीं करना चाहिए?

साँस लेने और छोड़ने की आवाज़ नहीं होनी चाहिए। व्यायाम के दौरान सांस को रोकना नहीं चाहिए। श्वास और साँस छोड़ने का समय समान होना चाहिए। इसके लिए जितनी बार आप सांस लेते हैं उसकी पांच बार गिनती करें और पांच बार गिनें।

इसे भी पढ़े : रागी खाने के फायदे और उपयोग हिंदी में